“Peco Satellite Event” का आयोजन: छात्राओं ने सीखा ड्रोन, उपग्रह का डिजाइन, निर्माण और लॉन्च करना

- सात जिलों की छात्राओं ने महात्मा गांधी विद्यालय में सैटेलाइट और ड्रोन किया लॉन्च
 
“Peco Satellite Event” का आयोजन: छात्राओं ने सीखा ड्रोन, उपग्रह का डिजाइन, निर्माण और लॉन्च करना

जयपुर। महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय (पूर्व राज.बालिका उच्च  माध्यमिक विद्यालय) मालवीय नगर में प्रदेश के सात जिलों से चयनित एवं प्रशिक्षित 30 छात्राओं ने शुक्रवार को छोटे सैटेलाइट और ड्रोन को संचालित किया। अजमेर, अलवर, बूंदी, जयपुर, भरतपुर, डूंगरपुर, झुन्झनु जिलों की इन छात्राओं ने विभिन्न चरणों से गुजर कर गत तीन दिवसीय कार्यशाला में ड्रोन एवं उपग्रह का डिजाइन करना, निर्माण करना और लॉन्च करना सीखा।

विज्ञापन: जयपुर में निवेश का अच्छा मौका JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 3.21 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

विद्यालय की प्रधानाचार्या निशि सिंह ने बताया स्टेम अर्थात साइंस, टेक्नोलॉजी, इंजिनियरिंग, मैथ्मेटिक्स फॉर गर्ल्स इंडिया के तहत आईबीएम इंडिया और अमेरिकन इंडिया फाउंडेशन (एआईएफ) राजस्थान के 10 जिलों में 306 सरकारी स्कूलों की छात्राओं को उपग्रह, ड्रोन और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में प्रशिक्षित करने के लिए एक साथ आए हैं, ताकि उन्हें उन्नत स्टेम कौशल के साथ सशक्त बनाकर स्टेम में शिक्षा और करियर बनाने में मदद की जाए। दोनों संस्थाओं ने मिलकर 2 से 4 नवंबर तक जयपुर में 3 दिवसीय “पीको सैटेलाइट इवेंट“ का आयोजन किया, जिसके लिए राजस्थान के विभिन्न सरकारी स्कूलों की 30 छात्राओं ने एक कार्यशाला में भाग लिया, जिसमें उन्हें ड्रोन और उपग्रह का डिजाइन, निर्माण और लॉन्च करना सिखाया गया। इस आयोजन का ग्रैंड फिनाले 4 नवंबर 2022 को आयोजित किया गया जहां छात्राओ ने उनके द्वारा बनाए गए उपग्रह और ड्रोन को संचालित कर प्रदर्शन दिया।

यह खबर भी पढ़ें: लंदन से करोड़ों की ‘बेंटले मल्सैन’ कार चुराकर पाकिस्तान ले गए चोर! जाने क्या है पूरा मामला?

500 छात्राओं के एक बैच में से चुनी गई इन 30 छात्राओं को कई कार्यशालाओं और ऑनलाइन परीक्षाओं के बाद कठोर, गहन प्रशिक्षण से गुजरना पड़ा है। छात्राओं द्वारा बनाए गए इन उपग्रहों द्वारा लिए गए डेटा का उपयोग भारतीय अनुसंधान परिषद और कृषि अनुसंधान केंद्र द्वारा किया जाएगा। छात्राओं को उपग्रह, ड्रोन और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के बारे में अधिक जानकारी प्रदान करने ,इस क्षेत्र में उच्च शिक्षा की आकांक्षा को बढ़ावा देने एवं उपग्रहों और ड्रोन को असेंबल करने का व्यवहारिक अनुभव प्रदान करने के साथ जागरूकता, आत्मविश्वास, कौशल को विकसित करने के उद्देश्य से इस परियोजना को तैयार किया गया है। इस कार्यक्रम में एआईएफ की हैड ऑफ ऑपरेशन्स रेणुका मालेकर, आईबीएम इंडिया की सीएसआर, प्रोग्राम मैनेजर परिणीता गर्ग, एवं अभिभावक, शिक्षक और शिक्षा अधिकारी भी शामिल हुए।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web