राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक से प्रदेश में तैयार हो रही नयी खेल संस्कृति- मुख्यमंत्री

- वंचित तबकों को विभिन्न योजनाओं से सरकार दे रही सामाजिक सुरक्षा
- ग्रामीण खिलाड़ियों को दिया जाएगा उच्च स्तरीय प्रशिक्षण
 
राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक से प्रदेश में तैयार हो रही नयी खेल संस्कृति- मुख्यमंत्री

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य में आयोजित हो रहे राजीव गांधी ग्रामीण ओलपिंक अपने आप में एक अनूठी पहल है। इससे प्रदेश की ग्रामीण खेल प्रतिभाओं को आगे आने का मंच मिला है। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि ओलम्पिक, एशियाड और कॉमनवेल्थ खेलों जैसी अन्तर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्द्धाओं में देश के खिलाड़ी बड़ी संख्या में मेडल लेकर आएं। प्रदेश के खिलाड़ियों की प्रतिभा को तराशने तथा उनको राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतिस्पर्द्धाओं के लिए तैयार करने में राज्य सरकार की यह पहल बड़ी भूमिका निभाएगी।

गहलोत शुक्रवार को बूंदी के नैनवां में राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक के ब्लॉक स्तरीय प्रतियोगिताओं के समापन समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राजस्थान में खेल प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है। राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक के माध्यम से उनकी खोज की जा रही है तथा इसके बाद उनकी प्रतिभा को निखारने के लिए उच्च स्तरीय प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि खिलाडियों को अच्छे कोच और मैदान उपलब्ध करवाए जाएंगे। राज्य सरकार हर पंचायत में खेल मैदान एवं हर जिले में सुविधायुक्त स्टेडियम उपलब्ध करवाने के लिए कार्य कर रही है। खेलों के क्षेत्र में राज्य को अग्रणी बनाना राज्य सरकार का ध्येय है। राजीव गांधी ग्रामीण ओलपिंक खेलों से तैयार हुए खेलों के प्रति सकारात्मक माहौल से भविष्य में सुखद परिणाम आएंगे। उन्होंने कहा कि ग्रामीण ओलम्पिक में 30 लाख खिलाड़ियों ने भाग लिया है तथा 2 लाख से अधिक टीमें बनी है। इनमें 10 लाख महिलाएं भी शामिल है, जो कि अपने आप में ऐतिहासिक है। 

राज्य सरकार खेल व खिलाड़ियों के हित में कर रही काम
खेलों के माध्यम से सरकारी नौकरी, पेंशन का प्रावधान 

गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार ने खेल एवं खिलाड़ियों के हित में लगातार निर्णय लिए हैं। सरकारी नौकरियों में खिलाड़ियों को 2 प्रतिशत आरक्षण, 229 प्रतिभावान खिलाड़ियों को आउट आफ र्टन नौकरी देने के साथ ही कोच और खिलाड़ियों के लिए पेंशन का भी प्रावधान कर दिया हैं। राज्य सरकार ने अन्तर्राष्ट्रीय पदक जीतने वाले खिलाड़ियों की पुरस्कार राशि को बढ़ाकर 3 करोड़ रूपए तक कर दिया है। ग्रामीण ओलम्पिक खेलों में बड़ी संख्या में सभी आयुवर्ग, सम्प्रदायों के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया है। उन्होंने कहा कि खेल में भाग लेने से प्रतिभागियों में अच्छे स्वास्थ्य के साथ-साथ निर्णय लेने की क्षमता, दूरदर्शिता के साथ आपसी भाईचारे की भावना का विकास होता है।

यह खबर भी पढ़ें: अनोखी परम्परा: यहां सिर्फ जिंदा ही नहीं बल्कि मर चुके लोगों की भी की जाती है शादी

राज्य सरकार की योजनाओं से मिली मंहगे इलाज से मुक्ति   
मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में सिर्फ राजस्थान ही एक मात्र ऐसा राज्य है, जहां राज्य सरकार चिरंजीवी बीमा योजना के माध्यम से आम प्रदेशवासियों को 10 लाख का बीमा दिया जा रहा है। इसके अलावा 5 लाख रूपए का दुर्घटना बीमा कवर भी मिल रहा है। उन्होंने कहा कि योजना में लीवर और किडनी ट्रांसप्लांट जैसी जटिल बीमारियों के मंहगे इलाज में 10 लाख की सीमा नहीं रखी गई है। आईपीडी, ओपीडी में सभी प्रकार के इलाज निःशुल्क कर दिए गए हैं। प्रदेशवासियों को राहत देते हुए सीटी स्केन, एमआरआई स्केन जैसी मंहगी जांचें भी निःशुल्क कर दी गई हैं। इन निर्णयों से स्वास्थ्य के क्षेत्र में राजस्थान एक अग्रणी राज्य बनकर उभरा है।

1.33 करोड़ महिलाओं को निःशुल्क स्मार्टफोन और इंटरनेट सेवाएं
गहलोत ने कहा कि जल्द ही राज्य सरकार द्वारा 1.33 करोड़ परिवारों की महिला मुखियाओं को निःशुल्क स्मार्ट फोन और तीन साल की इंटरनेट सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। इससे परिवार की महिलाओं को विभिन्न क्षेत्रों के ज्ञान के साथ सरकारी योजनाओं की जानकारी घर बैठे प्राप्त हो सकेगी। स्मार्ट फोन के माध्यम सेे बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई कर सकेंगे।

वंचित तबके को मिल रही सामाजिक सुरक्षा
गहलोत ने कहा कि मंहगाई के इस दौर में जनकेंद्रित नीतियां बनाकर आमजन को अधिक से अधिक राहत प्रदान करना एक संवेदनशील और जवाबदेही सरकार का कर्तव्य है। निशुल्क उपचार, गरीब विद्यार्थियों हेतु निःशुल्क अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा, बिजली बिलों में छूट, प्रदेश में बुजुर्ग, विधवाओं और विशेष योग्यजनों सहित 1 करोड लोगों को पेंशन देकर राज्य सरकार द्वारा सभी पात्र लोगों को सामाजिक सुरक्षा देने का कार्य किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का लक्ष्य प्रदेश के हर तबके की खुशहाली एवं उन्नति सुनिश्चित करना है। इसी दिशा में आगे बढ़ते हुए राज्य सरकार प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है। इसी क्रम में राज्य सरकार द्वारा कर्मचारियों का भविष्य सुरक्षित करने हेतु ओल्ड पेंशन स्कीम लागू की गई। साथ ही राज्य के कर्मचारी वर्ग के लिए स्वास्थ्य के क्षेत्र में आरजीएचएस स्कीम भी राज्य सरकार द्वारा लाई गई।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

ईआरसीपी को मिले राष्ट्रीय परियोजना का दर्जा
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के 13 जिलों में आमजन और किसानों के लिए पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस योजना से राजस्थान के एक बड़े क्षेत्र में पेयजल व सिंचाई जल की आपूर्ति सुनिश्चित होगी। केंद्र सरकार को जल्द से जल्द ईआरसीपी को राष्ट्रीय परियोजना घोषित करनी चाहिए। प्रधानमंत्री स्वयं अपनी सभाओं में ईआरसीपी को राष्ट्रीय परियोजना का दर्जा देने का समर्थन कर चुके हैं। अनावश्यक देरी से परियोजना की लागत बढ़ेगी व प्रदेशवासी परियोजना के लाभ से वंचित होंगे। उन्होंने कहा कि इस वर्ष राज्य के कई जिलों में अतिवृष्टि से किसानों की फसलों का नुकसान हुआ है। इन क्षेत्रों में गिरदावरी का कार्य करवाकर किसानों को उचित मुआवजा दिलाने का कार्य किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार सभी क्षेत्रों में आमजन के हितों को केंद्र में रखकर निर्णय ले रही है। किसानों के लिए अलग से कृषि बजट लाने वाला राजस्थान एक मात्र राज्य है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में किसान मित्र ऊर्जा योजना के माध्यम से लाखों किसानों का बिजली बिल शून्य हो गया है। इसी प्रकार 50 यूनिट निःशुल्क किए जाने के फैसले से करीब 42 लाख घरेलू उपभोक्ताओं का बिजली बिल जीरो हो गया है। उन्होंने कहा कि सरकार की नीतियों से आज राज्य ने बिजली उत्पादन के क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति की है। गहलोत ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में राज्य सरकार ने बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए विद्यालय में 500 बालिकाऐं होने पर कॉलेज खोलने का ऐतिहासिक निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में प्रदेश में 210 महाविद्यालय खोले गए हैं, जिनमें 90 कन्या महाविद्यालय शामिल हैं। महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों के द्वारा वंचित तबके के विद्यार्थी अंग्रेजी भाषा में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा निःशुल्क प्राप्त कर रहे हैं।

बूंदी के नैनवां में बनेगी कृषि गौण मंडी, देई में अस्पताल में होंगे 50 बेड
मुख्यमंत्री ने बूंदी के देई अस्पताल में बेडों की संख्या 30 से बढ़ाकर 50 करने की घोषणा की। साथ ही उन्होंने नैनवां में कृषि गौण मण्डी के लिए 50 बीघा भूमि के आवंटन का की भी घोषणा की। 

यह खबर भी पढ़ें: इस गांव में लोग एक-दुसरे को सीटी बजाकर बुलाते हैं, जो लोग सीटी नहीं बजा पाते...

खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में सभी वर्गों को राहत पहुंचाने के लिए शानदार फैसले लिए हैं। राज्य सरकार ने हिण्डोली-नैनवां क्षेत्र के चहुमुंखी विकास में कोई कमी नहीं रखी है। देश में राजस्थान का खेल मॉडल आज चर्चा का विषय है।

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरिवास ने कहा कि राज्य में आयोजित ग्रामीण ओलपिंक में सभी जाति, धर्म, सम्प्रदाय के लोग उत्साहपूर्वक भाग ले रहे हैं।

पूर्व शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि ग्रामीण ओलपिंक खेलों से प्रदेश में बच्चों के साथ ही आमजन में भी आपसी भाईचारा बढ़ा है। राज्य सरकार द्वारा आमजन के जीवन स्तर को बेहतर बनाने के लिए हर क्षेत्र में योजनाएं लाई गई हैं, जिनका सफलतापूर्वक क्रियान्वयन हो रहा है। 

कार्यक्रम में जिला प्रमुख चन्द्रावती कंवर, पूर्व वित राज्यमंत्री हरिमोहन शर्मा, पूर्व विधायक सीएल प्रेमी, पूर्व जिला प्रमुख राकेश बोयत, आईजी कोटा प्रसन्न कुमार खमेसरा, जिला कलक्टर डॉ. रविन्द्र गोस्वामी, जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव, अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारी, खिलाड़ी तथा बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित रहे। 

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web