हाथ का हुनर सीख अब राजीविका स्वयं सहायता समूह की महिलाएं बनेंगी आत्मनिर्भर

13 दिवसीय ’’सॉफ्ट टॉयज मेकर एंड सेलर’’ निःशुल्क रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन किया गया।
 
हाथ का हुनर सीख अब राजीविका स्वयं सहायता समूह की महिलाएं बनेंगी आत्मनिर्भर

श्रीगंगानगर। पंजाब नेशनल बैंक ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान के तत्वावधान में 13 दिवसीय ’’सॉफ्ट टॉयज मेकर एंड सेलर’’ निःशुल्क रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन किया गया। इस मौके पर आरसेटी निदेशक शिव सिंह पंवार, राजीविका जिला प्रबंधक चन्द्रशेखर व गांव भादवांवाला की सरपंच सोनू सहारण मौजूद रहे।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

आरसेटी निदेशक पंवार ने बताया कि जिस मेहनत व लगन से प्रशिक्षणार्थियों ने कार्य सीखा है, उसके लिए बधाई के पात्रा है। पूर्ण रुचि के साथ कार्य सीखा है, अब इस सीखे हुए कार्य से स्वयं का रोजगार शुरु करना है व आत्मनिर्भर बनना है। इस प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य भी प्रशिक्षित कर अपनी परिवार की आर्थिक मदद करने के योग्य बनाना है। प्रशिक्षणार्थियों को अपने स्तर पर भी प्रयास करना है कि आप जो उत्पाद बनायेंगे, उन्हें कहां बेच सकते हैं। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षणार्थियों को अगर ऋण संबंधी कोई सहायता चाहिए, तो उसमें भी संस्थान द्वारा आपकी मदद की जायेगी। उन्होंने प्रशिक्षणार्थियों से आह्वान किया कि अगर आपके आसपास के क्षेत्रा में कोई बेरोजगार युवा प्रशिक्षण लेने का इच्छुक है, तो उसे संस्थान के बारे में अवश्य बताये।

यह खबर भी पढ़ें: विदाई के समय अपनी ही बेटी के स्तनों पर थूकता है पिता, फिर मुड़वा देता है सिर, जानें क्यों?

राजीविका जिला परियोजना प्रबंधक चन्द्रशेखर ने प्रशिक्षणार्थियों को बताया कि आपने जो कार्य सीखा है उसे आप यही तक सीमित न रखें, स्वरोजगार शुरु करंे व आत्मनिर्भर बन अपनी पारिवारिक स्थिति को मजबूत करें। आज के महंगाई के युग में महिलाआंे का भी कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करना बहुत आवश्यक है। अगर आप लोग आत्मनिर्भर बनेंगे तो समाज में आपका मान-सम्मान और बढे़गा। राजीविका का उद्देश्य यही है कि आप स्वयं के पैरों पर खडे़ं हो व आगे बढें। आप द्वारा बनाये गये उत्पादों को आसपास के ब्लॉक में भी बेचा जायेगा, जिससे आपका रोजगार और आगे बढ़ सके।

यह खबर भी पढ़ें: बेटी से मां को दिलाई फांसी, 13 साल तक खुद को अनाथ मानती रही 19 साल की बेटी, जाने क्या था मामला

सरपंच सोनू सहारण ने बताया कि इस प्रशिक्षण के बाद आप अपना रोजगार शुरु कर आय अर्जित करना प्रारम्भ करें। जब आप आय अर्जित करेंगे तो परिवार में आपका मान सम्मान भी बढ़ेगा व आप में आत्मविश्वास भी आयेगा। जिन्दगी में अगर कामयाब होना है, तो आपको आगे आना ही होगा व आत्मनिर्भर बनना होगा। इस मौके पर आरसेटी की संकाय मनीषा, कार्यालय सहायक दीपक कुमार, नीरज कुमार व परिचर जितेन्द्र कुमार मौजूद रहे।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web