ग्राम विकास अधिकारी सीधी भर्ती परीक्षा- 2021 में चयनित अभ्यर्थियों की पात्रता जांच एवं दस्तावेज सत्यापन 6 सितम्बर से

- प्रथम चरण के सत्यापन हेतु पंचायतीराज कर्मियों को शुक्रवार को दिया गया प्रशिक्षण
- आईजीपीआरएस में 23 सितम्बर तक प्रातः 10 से सायं 5 बजे तक चलेगी दस्तावेज सत्यापन की प्रक्रिया
 
ग्राम विकास अधिकारी सीधी भर्ती परीक्षा- 2021 में चयनित अभ्यर्थियों की पात्रता जांच एवं दस्तावेज सत्यापन 6 सितम्बर से

जयपुर। राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा ग्राम विकास अधिकारी सीधी भर्ती परीक्षा 2021 में अस्थायी रूप से चयनित अभ्यर्थियों की पात्रता की प्राथमिक जांच एवं दस्तावेजों का सत्यापन पंचायती राज विभाग द्वारा 6 सितम्बर से 23 सितम्बर तक जवाहरलाल नेहरू मार्ग स्थित इंदिरा गांधी पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास संस्थान में किया जाएगा। 

पंचायती राज विभाग के शासन सचिव नवीन जैन ने बताया कि पात्रता जांच एवं दस्तावेजों के प्रथम चरण के सत्यापन का कार्य 6 सितम्बर, मंगलवार से इंदिरा गांधी पंचायती राज संस्थान में प्रातः 10 बजे से प्रारम्भ होगा। राजकीय अवकाशों को छोड़कर 23 सितम्बर तक प्रतिदिन प्रातः 10 से दोपहर 2 बजे तक एवं अपराह्व 3 बजे से सायं 5 बजे तक अभ्यर्थियाें की पात्रता जांच एवं दस्तावेजों का सत्यापन किया जाएगा। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

जैन ने बताया कि इसी क्रम में शुक्रवार शाम को पंचायती राज विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों को अभ्यर्थियों की पात्रता जांच एवं दस्तावेज सत्यापन का गहन प्रशिक्षण आईजीपीआरएस में प्रदान किया गया। दस्तावेजों के सत्यापन के लिए दो-दो सदस्यों वाले कुल 20 दल बनाए गए हैं। प्रति पांच दल पर एक प्रभारी अधिकारी को नियुक्त किया गया है। हर दल को प्रतिदिन 45 अभ्यर्थी आवंटित रहेंगे। इसके लिए संस्थान के कक्ष संख्या 101, 201, 202 एवं बेसमेंट में व्यवस्था की गई है।  

आने वाले अभ्यर्थियों के लिए टोकन की व्यवस्था की गई जिससे पूरी प्रक्रिया सुचारू रहेगी। इस स्थल पर एक हैल्पडेस्क की भी व्यवस्था रहेगी जो दस्तावेज सत्यापन के लिए प्रतिदिन बुलाए गए 900 अभ्यर्थियों को उनकी उपस्थिति के बाद कक्ष की जानकारी देने, ई-मित्र एवं ऑन पेमेंट उपलब्ध सेवाओं की जानकारी देने सहित दस्तावेज सत्यापन की प्रक्रिया को सुगम एवं निर्बाध रूप से पूरा करने में सहायता करेगी। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

जैन ने बताया कि शुक्रवार को दलों में लगाए गए अधिकारी-कर्मचारियों को अभ्यर्थियों के जाति प्रमाणपत्र, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग(ईडब्ल्यूएस), शैक्षणिक योग्यता, आयु, वैवाहिक स्थिति, परित्यकता, भूतपूर्व सैनिक उत्कृष्ट खिलाड़ी, विषेष योग्यजन,चरित्र एवं टीएसपी, नॉन टीएसपी एवं अन्य मूल दस्तावेजों के सत्यापन का प्रशिक्षण दिया गया है। साथ ही पुलिस जाब्ता, पेयजल, बैठक, माइकिंग एवं अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं कर ली गई हैं। 

उन्होंने बताया कि पात्रता जांच एवं दस्तावेज सत्यापन की सम्पूर्ण व्यवस्था के प्रभारी संयुक्त शासन सचिव आयोजना एस.आर. मीना होंगे। उनके साथ संयुक्त निदेशक मुख्यालय प्रवीण कच्छावा सम्पूर्ण व्यवस्था के सहप्रभारी होंगे। समन्वय अतिरिक्त निदेशक आईजीपीआरएस (कार्यवाहक) घनश्याम शर्मा करेंगे।

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के विशेषाधिकारी डॉ.सऊद अख्तर एवं सलाहकार रघुवीर सिंह ने भी कर्मचारियों को प्रशिक्षण प्रदान किया एवं उनकी शंकाओं का समाधान किया। 

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web