चिरंजीवी योजना बनी जीवनदायी, सुशीला देवी को मिला ब्लैक फंगस का निशुल्क इलाज

मुख्यमंत्री ने आमजन को इलाज के खर्च से चिंतामुक्त करने के जिस उद्देश्य के साथ इस योजना की शुरूआत की थी

 
चिरंजीवी योजना बनी जीवनदायी, सुशीला देवी को मिला ब्लैक फंगस का निशुल्क इलाज

जयपुर। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना प्रदेशवासियों के लिए जीवनदायी साबित हो रही है। आर्थिक तंगी के चलते अब प्रदेशवासियों को गुणवत्ता युक्त उपचार से वंचित नहीं होना पड़ रहा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आमजन को इलाज के खर्च से चिंतामुक्त करने के जिस उद्देश्य के साथ इस योजना की शुरूआत की थी, उसे पूरा करने की दिशा में यह योजना तेजी से आगे बढ़ रही है। 

योजना के माध्यम से लाखों लोगों को निशुल्क उपचार मिला है। इनमें भी बड़ी संख्या में ऐसे मरीज शामिल हैं, जो असाध्य रोग से ग्रसित थे और आर्थिक तंगी के चलते अपना इलाज नहीं करवा पा रहे थे। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री की संवेदनशीलता के चलते इस योजना में ब्लैक फंगस, कैंसर, पैरालाइसिस, हार्ट सर्जरी, न्यूरो सर्जरी, ऑर्गन ट्रांसप्लांट जैसी गंभीर बीमारियों का जटिल से जटिल इलाज भी बिल्कुल निशुल्क हो रहा है। 

यह खबर भी पढ़ें: इस गांव में लोग एक-दुसरे को सीटी बजाकर बुलाते हैं, जो लोग सीटी नहीं बजा पाते...

हाल ही एक ऐसा वाकया सामने आया, जिसमें जीवन की जंग से जूझ रही सुशीला देवी को इस योजना से मुफ्त इलाज मिला और अब वह पूरी तरह स्वस्थ है। जयपुर की सोड़ाला निवासी सुशीला देवी को ब्लैक फंगस जैसी गंभीर बीमारी हो गई थी। उन्होंने इसके उपचार के लिए जब निजी अस्पताल में परामर्श लिया तो इसका खर्चा 5 से 7 लाख रूपए तक बताया गया। यह सुनकर सुशीला देवी और उनका पूरा परिवार चिंता से घिर गया। 

इसके बाद उनके परिवार को जब यह जानकारी मिली कि चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में इस बीमारी का इलाज किया जा रहा है तो उन्होंने जनआधार कार्ड के माध्यम से चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना का कार्ड बनवाया। इसके बाद उन्होंने सवाई मानसिंह अस्पताल में चिकित्सक से परामर्श लिया। यहां चिरंजीवी योजना में उनका ऑपरेशन निशुल्क किया गया तथा दवा सहित अन्य चिकित्सा सुविधाओं के लिए उन्हें एक भी रूपया खर्च नहीं करना पड़ा। 

यह खबर भी पढ़ें: अनोखी परम्परा: यहां सिर्फ जिंदा ही नहीं बल्कि मर चुके लोगों की भी की जाती है शादी

सुशीला देवी बताती हैं कि अगर यह योजना नहीं होती तो उन्हें इस बीमारी का उपचार करवाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता। इस योजना के चलते ब्लैक फंगस जैसी बीमारी का महंगा उपचार और महंगी दवाओं के खर्च का भार राज्य सरकार ने वहन किया। उन्हें इसके लिए अस्पताल में कोई पैसा नहीं देना पड़ा। इस योजना के कारण उनको नया जीवन मिला है। उनका कहना है कि राज्य सरकार की यह योजना गरीबों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है।     

सुशीला देवी के पति सत्यनारायण मेहरा ने बताया कि इलाज के दौरान लगने वाले महँगे इंजेक्शनस भी इस योजना में निशुल्क प्रदान किये गए, जबकि निजी अस्पतालों में इन इंजेक्शन का खर्च अलग से बताया गया था। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की यह योजना यूनिवर्सल हैल्थ कवरेज की दिशा में सरकार का एक बड़ा कदम है।   

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web