मुख्यमंत्री ने शिक्षक दिवस, बाबा रामदेव जयंती और तेजादशमी पर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

गहलोत ने कहा कि बाबा रामदेवजी और वीर तेजाजी अपने अलौकिक गुणों के कारण ही पूरे प्रदेश में लोकदेवता के रूप में पूजे जाते हैं।

 
मुख्यमंत्री ने शिक्षक दिवस, बाबा रामदेव जयंती और तेजादशमी पर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शिक्षक दिवस, बाबा रामदेव जयंती और तेजादशमी (5 सितंबर) के अवसर पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। गहलोत ने कहा कि बाबा रामदेवजी और वीर तेजाजी अपने अलौकिक गुणों के कारण ही पूरे प्रदेश में लोकदेवता के रूप में पूजे जाते हैं।

गहलोत ने कहा कि बाबा रामदेव ने गरीबों और जरूरतमंदों की सेवा कर मानवता का संदेश दिया। उन्होंने अत्याचार, वैर-द्वेष, छुआछूत सहित कई सामाजिक बुराइयों को मिटाकर समरसता स्थापित करने और गरीबों तथा जरूरतमंदों की सेवा के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया। बाबा रामदेवजी का मेला राजस्थान में साम्प्रदायिक सद्भाव की अनूठी मिसाल है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गौ रक्षार्थ अपना बलिदान देने वाले वीर तेजाजी ने समाज को निरीह पशु-पक्षियों की रक्षा करने का अमिट संदेश दिया। उन्होंने लोक कल्याण और परोपकार की भावना को कण-कण में संजोने के कार्य किए। 

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर प्रदेशवासियों का आह्वान किया कि वे बाबा रामदेवजी और वीर तेजाजी द्वारा बताए गए सौहार्द व जनकल्याण के मार्ग पर चलकर प्रदेश में सामाजिक समरसता बनाए रखने में सक्रिय भूमिका निभाएं। प्रदेश में भाईचारे की भावना को स्थापित करने में योगदान दें।  

a

मुख्यमंत्री की शिक्षक दिवस पर शुभकामनाएं
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शिक्षक दिवस (5 सितंबर) पर प्रदेश के सभी शिक्षकों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने शिक्षक दिवस पर पूर्व राष्ट्रपति व प्रख्यात शिक्षाविद् डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के योगदान को स्मरण करते हुए कहा कि विद्यार्थियों को शिक्षा एवं संस्कार देने वाले शिक्षक समाज के पथ-प्रदर्शक हैं। विद्यार्थियों का चरित्र निर्माण कर उन्हें योग्य नागरिक बनाने में शिक्षकों का अहम योगदान रहता है।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में शिक्षा को बढ़ावा देने और शिक्षकों के सम्मान में अभिवृद्धि के लिए कृतसंकल्पित है। राज्य सरकार द्वारा शिक्षा से संबंधित अनेक योजनाएं संचालित की जा रही है, जिन्हें शिक्षकों की सहभागिता से ही सफल बनाया जा रहा है। 

गहलोत ने शिक्षकों से अपील की है कि वे विद्यार्थियों को सद्भावना, देशप्रेम और भाईचारे की भावना के साथ आगे बढ़ने के लिए तैयार करें। उन्होंने विद्यार्थियों का आह्वान किया कि वे अपने शिक्षकों के प्रति श्रद्धा एवं सम्मान की महान परम्परा को और मजबूत बनाएं। 

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web