Sudan Crisis: पीएम मोदी ने सूडान से भारतीयों को निकालने के लिए की हाई लेवल मीटिंग, कई प्रमुख लोग रहे मौजूद

पीएम मोदी ने सूडान की लड़ाई में मारे गए एक भारतीय की मौत पर संवेदना जताई। 
 
Sudan Crisis: पीएम मोदी ने सूडान से भारतीयों को निकालने के लिए की हाई लेवल मीटिंग, कई प्रमुख लोग रहे मौजूद

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सूडान में चल रही लड़ाई के बीच फंसे भारतीयों को लेकर हाई लेवल मीटिंग की। इसमें विदेश मंत्री एस जयशंकर समेत कई प्रमुख लोग मौजूद रहे। इस दौरान पीएम मोदी ने सूडान में हालात का जायजा लिया। उन्होंने कहा, सूडान में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए इमरजेंसी प्लान तैयार रखें। पीएम मोदी ने सूडान की लड़ाई में मारे गए एक भारतीय की मौत पर संवेदना जताई। साथ ही उन्होंने संबंधित अधिकारियों को चौकन्ना रहने के लिए कहा है। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

उन्होंने कहा है कि सूडान के आसपास के देशों से संपर्क रखें। बीते दिन विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सूडान के लगातार बिगड़ते हालात पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस से मुलाकात की थी। वहीं केरल के CM पिनरई विजयन ने भी PM मोदी को चिट्ठी लिखकर सूडान में फंसे भारतीय नागरिकों की सुरक्षित वापसी का अनुरोध किया। इससे पहले UN चीफ एंटोनियो गुटेरेस से बातचीत के दौरान विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा था, हमारा पूरा ध्यान इस बात पर है कि व्यावहारिक, जमीनी स्तर पर युद्धविराम कैसे हासिल किया जाए। भारत सीजफायर के समर्थन में है और हम इसके लिए पूरी कोशिश करेंगे।

यह खबर भी पढ़ें: लंदन से करोड़ों की ‘बेंटले मल्सैन’ कार चुराकर पाकिस्तान ले गए चोर! जाने क्या है पूरा मामला?

दरअसल, सूडान में पिछले कई दिनों से मिलिट्री और पैरामिलिट्री के बीच लड़ाई जारी है। WHO के मुताबिक, इसमें अब तक 400 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और करीब 3500 लोग घायल हुए हैं। इस लड़ाई का केंद्र बनी राजधानी खार्तूम में भारत के करीब डेढ़ हजार नागरिक भी फंसे हुए हैं। वहीं सूडानी शहर अल-फशेर में कर्नाटक के हक्की-पिक्की आदिवासी समुदाय के 31 लोग शामिल हैं। 

यह खबर भी पढ़ें: विदाई के समय अपनी ही बेटी के स्तनों पर थूकता है पिता, फिर मुड़वा देता है सिर, जानें क्यों?

आपको बता दें कि कर्नाटक के 31 आदिवासी सूडान में फंस हुए हैं। सभी लोग सूडानी शहर अल-फशेर में रह रहे हैं। ये लोग आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी बेचने के लिए सूडान गए थे। इनमें से 19 लोग कर्नाटक के हुनसूर, 7 शिवामोगा और 5 लोग चन्नागिरी के रहने वाले हैं। सूडान में फंसे भारतीयों में से एक एस. प्रभू ने मंगलवार को इंडियन एक्सप्रेस से फोन पर बात की थी। उसने बताया था कि हम पिछले 4-5 दिनों से एक किराए के मकान में फंसे हुए हैं। हमारे पास खाना या पीने के लिए कुछ भी नहीं है। बाहर से लगातार धमाकों की आवाज आ रही है। यहां कोई हमारी मदद करने को तैयार नहीं है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web