'1947 में हमसे बहुत बड़ी गलती हुई' जाने Kejrival ने PM मोदी को लिखी चिट्ठी में क्या कहा

 
Arvind Kejariwal

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीएम श्री योजना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर कई बातें कही हैं। उन्होंने लिखा, 'देश भर में रोज़ 27 करोड़ बच्चे स्कूल जाते हैं। इनमें लगभग 18 करोड़ बच्चे सरकारी स्कूलों में जाते हैं। 80% से ज़्यादा सरकारी स्कूलों की हालत किसी कबाड़खाने से भी ज़्यादा ख़राब है।'

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejariwal) ने केंद्र सरकार की 14,500 स्कूल अपग्रेड करने की पीएम श्री (PM SHRI) योजना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। उन्होंने कहा- 'देश में 10 लाख से ज़्यादा सरकारी स्कूल हैं, ऐसे तो सभी स्कूलों को ठीक करने में 100 साल से भी ज़्यादा लग जाएंगे?' मेरा आपसे आग्रह है कि 14,500 नहीं सभी 10 लाख सरकारी स्कूल ठीक करने की योजना बनाएं, 5 वर्षों में योजना कार्यान्वित की जाए।' उन्होंने लिखा कि 80% से ज़्यादा सरकारी स्कूलों की हालत किसी कबाड़खाने से भी ज़्यादा ख़राब है। यहां पढ़ें अरविंद केजरीवल ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी में क्या-क्या कहा।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

आदरणीय प्रधानमंत्री जी,
मुझे मीडिया से पता चला है कि केंद्र सरकार ने देश भर में 14,500 स्कूलों को अपग्रेड करने की योजना बनाई है। ये बहुत अच्छी बात है। पूरे देश में सरकारी स्कूलों की हालत बहुत ख़राब है। उनको अपग्रेड और आधुनिक बनाने की बहुत ज़रूरत है। देश भर में रोज़ 27 करोड़ बच्चे स्कूल जाते हैं। इनमें लगभग 18 करोड़ बच्चे सरकारी स्कूलों में जाते हैं। 80% से ज़्यादा सरकारी स्कूलों की हालत किसी कबाड़खाने से भी ज़्यादा ख़राब है। अगर करोड़ों बच्चों को हम ऐसी शिक्षा दे रहे हैं तो सोचिए भारत कैसे विकसित देश बनेगा?

1947 में हमसे बहुत बड़ी गलती हुई। देश आज़ाद होते ही सबसे पहले हमें भारत के हर गांव और हर मोहल्ले में शानदार सरकारी स्कूल खोलने चाहिए थे। कोई भी मुल्क अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दिए बिना तरक्कीत नहीं कर सकता। 1947 में हमने ऐसा नहीं किया। ज़्यादा दुःख की बात ये है कि अगले 75 साल भी हमने अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देने पर ध्यान नहीं दिया। क्या  भारत अब और वक्त बर्बाद कर सकता है?

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

आपने केवल 14,500 सरकारी स्कूलों को ठीक करने की योजना बनाई है। देश भर में दस लाख से ज़्यादा सरकारी स्कूल हैं। ऐसे तो सारे सरकारी स्कूलों को ठीक करने में सौ साल से भी ज़्यादा लग जाएंगे। तो क्या अगले सौ साल भी हम दूसरे देशों से पीछे रहेंगे? देश के हर सरकारी स्कूल में शानदार शिक्षा की व्यवस्था के बिना हमारा देश विकसित देश नहीं बन सकता।

देश के 130 करोड़ लोग अब और रुकने के लिए तैयार नहीं हैं। सब लोग चाहते हैं कि भारत दुनिया का नम्बर वन देश बने, भारत एक अमीर देश बने, भारत एक सर्वश्रेष्ठ और शक्तिशाली देश बने। इसलिए मेरा आपसे आग्रह है कि 14,500 की बजाय सारे 10 लाख सरकारी स्कूलों को शानदार बनाने की योजना बनाई जाए। इसमें सभी राज्य सरकारों को साथ ल्रिया जाए और अगले पांच वर्षों में इसे कार्यान्वित किया जाए। सारा देश यही चाहता है। दिल्लीा में हमने बहुत कम पैसों में सरकारी स्कूल बहुत शानदार बना दिए। राष्ट्र निर्माण के इस कार्य में हम पूरी तरह आपका सहयोग करेंगे।

पीएम मोदी को लिखी अरविंद केजरीवाल की चिट्ठी
karjariwal letter

यह खबर भी पढ़ें: भूल से महिला के खाते में पहुंचे 70 लाख डॉलर और फिर...

kejariwal letter 2

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

बता दें कि पीएम मोदी ने शिक्षक दिवस के मौके पर देशभर के 14 हजार 500 स्कूलों को अपग्रेड करने की प्रधानमंत्री स्कूल्स फॉर राइजिंग इंडिया यानी पीएम श्री योजना तैयार की है। इस योजना के जरिए पूरे भारत में विकास और उन्नयन होगा, जो देश की नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की भावनाओं से भरें होंगे। इन अपग्रेड स्कूलों में स्मार्ट क्लासरूम, साइंस लैब, आधुनिक लाइब्रेरी व सभी सुविधाओं वाला खेल का मैदान होगा। देश के हर ब्लॉक में कम से कम एक पीएम श्री स्कूल खोला जाएगा।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web