उपन्यास 'सिसोदिया राजवंशी का दारोगा' का विमोचन, कोरोना काल के मार्मिक वर्णन के साथ मजदूरों के पलायन का है विदारक वर्णन

माँ ने किया बेटे सब इंस्पेक्टर सुदरलाल द्वारा लिखित पुस्तक का विमोचन
 
sisodiya raajavanshee ka daaroga

जयपुर। राजस्थान पुलिस अकादमी में तैनात ग्राम हीरवा जिला झुंझुनू निवासी उप निरीक्षक सुंदरलाल ने पुलिस की कार्यप्रणाली के साथ-साथ समाज के विभिन्न पहलुओं को मद्देनजर रखते हुए उपन्यास "सिसोदिया राजवंशी का दारोगा " की रचना की जिसका विमोचन उनकी माता  संतोष देवी के द्वारा किया गया।

सुदंर लाल ने बताया कि पुलिस और साहित्य दोनों ही अलग-अलग क्षेत्र हैं तथा पुलिस अधिकारी अपनी व्यस्तताओं के कारण साहित्य व कला के क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन नहीं कर पाता पर कुछ अधिकारियों पर यह बात लागू नहीं होती है। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

राजस्थान पुलिस में उपनिरीक्षक के पद पर कार्यरत सुंदर लाल पुलिस अधिकारी के साथ-साथ कवि और साहित्यकार भी हैं। उनके तीन काव्य संग्रह बणी-ठणी, सन 2020 : एक पहेली व कलम का सिपाही और भी है जो पूर्व में ही प्रकाशित हो चुके हैं । उप निरीक्षक की रचना प्रकृति प्रेम, जीवन दर्शन, भक्ति, विरह वेदना आदि विषयों पर केंद्रित हैं। 

कोरोना काल में जब संपूर्ण समाज पर, मानवता पर खतरा मंडरा रहा था तब उप निरीक्षक ने राज्य के कोविड डेडीकेटेड अस्पताल आरयूएचएस में लगभग एक साल तक अपनी उल्लेखनीय सेवाएं  दी। सिसोदिया राजवंशी का दारोगा उपन्यास आरयूएचएस ड्यूटी के दौरान ही लिखा गया। इस उपन्यास में कोविड महामारी का बड़ा ही मार्मिक वर्णन किया गया है। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

कोविड संक्रमित लाशों  का अंतिम संस्कार भी पुलिस प्रशासन की निगरानी में किया जाता था उसी दौरान मजदूरों का पलायन हुआ। उपन्यास में मजदूरों के पलायन का बड़ा ही हृदय विदारक वर्णन किया है। उप निरीक्षक ने अपनी रचना में समाज को आईना दिखाने के साथ-साथ सामाजिक आर्थिक व राजनीतिक परिवेश पर नजर रखते हुए आधुनिक भौतिकवादी संस्कृति पर कटाक्ष करते हुए प्रकृति की और लोट चलने का आह्वान किया है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web