केरल में स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया के कार्यकर्ताओं ने प्रिंसिपल को दी धमकी, बोले- आपके घुटने तोड़ देंगे...

SFI कार्यकर्ता SFI त्रिशूर जिला सचिव हसन मुबारक के नेतृत्व में प्रदर्शन कर रहे थे।
 
केरल में स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया के कार्यकर्ताओं ने प्रिंसिपल को दी धमकी, बोले- आपके घुटने तोड़ देंगे...

नई दिल्ली। केरल में स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI ) के कार्यकर्ताओं की ओर से कॉलेज प्रिंसिपल के ऑफिस में घुसकर धमकी देने का मामला सामने आया है। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि प्रिंसिपल ने एक छात्र के साथ कथित दुर्व्यवहार किया। यह पूरा मामला CCTV कैमरा में रिकॉर्ड हो गया। फुटेज में दिख रहा है कि प्रिंसिपल अपने ऑफिस में कुछ लोगों के साथ बैठे हैं। तभी 3 से 4 SFI के कार्यकर्ता अंदर आते हैं और प्रिंसिपल को धमकाने लगते हैं। उनमें से एक कहता है, मैं आपके घुटने तोड़ दूंगा। आप बाहर आओ। 

विज्ञापन: जयपुर में निवेश का अच्छा मौका JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 3.21 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

खास बात यह है कि पास में पुलिस वाला खड़ा है, लेकिन वह चुपचाप देखता रहता है। कुछ देर बाद सभी कार्यकर्ता बाहर चले जाते हैं। तो वही प्रिंसिपल पी दिलीप ने बीते दिन शिकायत दर्ज कर इस घटना की जानकारी दी। पुलिस ने SFI के त्रिशूर जिला सचिव सहित 6 लोगों के खिलाफ धारा 447 (आपराधिक अतिचार), 506 (आपराधिक धमकी), और 353 (लोक सेवक को उसके कर्तव्य के निर्वहन से रोकने के लिए हमला या आपराधिक बल) के तहत मामला दर्ज किया है।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

दरअसल, मामला केरल के त्रिशूर महाराजा टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट का है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 25 अक्टूबर को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी (CPI-M) की छात्र इकाई SFI के कार्यकर्ता एक छात्र के साथ कथित दुर्व्यवहार को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे और कॉलेज के प्रिंसिपल को ऑफिस के बाहर बुला रहे थे, लेकिन उनके बाहर नहीं आने पर कार्यकर्ता खुद ऑफिस के अंदर चले गए और सबके सामने प्रिंसिपल के साथ बदतमीजी की। साथ ही घुटने तोड़ने की धमकी भी दी। 

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

SFI कार्यकर्ता SFI त्रिशूर जिला सचिव हसन मुबारक के नेतृत्व में प्रदर्शन कर रहे थे। मुबारक ने इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर भी पोस्ट किया है। इसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि कुछ दिन पहले प्रिंसिपल ने स्कैल्प सोरायसिस से पीड़ित एक छात्र की टोपी को जबरदस्ती हटा दिया, जबकि डॉक्टरों ने उसे धूल और धूप से दूर रखने के लिए टोपी पहनने के लिए कहा था।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web