शिवमूर्ति शरणारू 14 दिन की न्यायिक हिरासत में, दो नाबालिग लड़कियों के यौन उत्पीड़न का आरोप

पुलिस ने शरणारू को बीते दिन गुरुवार को गिरफ्तार किया था, लेकिन शुक्रवार को उन्हें सीने में दर्द के बाद हॉस्पिटल में एडमिट किया गया। 

 
शिवमूर्ति शरणारू 14 दिन की न्यायिक हिरासत में, दो नाबालिग लड़कियों के यौन उत्पीड़न का आरोप

नई दिल्ली। कर्नाटक के श्री मुरुघ मठ के मुख्य पुजारी शिवमूर्ति मुरुघा शरणारू को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। शरणारू पर मठ के स्कूल में पढ़ने वाली 2 नाबालिग लड़कियों के यौन उत्पीड़न का आरोप है। कर्नाटक पुलिस ने शरणारू को बीते दिन गुरुवार को गिरफ्तार किया था, लेकिन शुक्रवार को उन्हें सीने में दर्द के बाद हॉस्पिटल में एडमिट किया गया। डॉक्टर्स का कहना है कि शरणारू की ECG रिपोर्ट में हार्ट प्रॉब्लम सामने आई हैं, इसलिए उन्हें आगे की जांच के लिए हॉस्पिटल में ही रहना होगा। वहीं, पुलिस शनिवार को ओपन कोर्ट में शरणारू को पुलिस रिमांड में लेने की मांग करेगी। उधर डिस्ट्रिक्ट सेशन कोर्ट जज कोमला ने श्री मुरुघा मठ के शिवमूर्ति मुरुघा शरणारू को अस्पताल से सीधे कोर्ट आने का आदेश जारी किया है। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

आपको बता दे शिवमूर्ति मुरुघा शरणारू पर नाबालिगों का यौन उत्पीड़न का आरोप है। पीड़ित लड़कियों ने न्याय की मांग करते हुए मैसूर में 'ओदानदी' NGO से संपर्क किया था। उन्हें 26 अगस्त को मैसूर में बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया गया और उसी रात मुरुघा शरण समेत 5 के खिलाफ कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था। तो वही आरोप लगाने वाली किशोरियों का कहना है कि वे मठ की ओर से संचालित स्कूल में पढ़ती हैं, उनकी उम्र 15 और 16 साल है। संत ने उनका साढ़े तीन साल से अधिक समय तक यौन शोषण किया। पीड़ित 24 जुलाई को हॉस्टल से निकलीं और 25 जुलाई को कॉटनपेट पुलिस स्टेशन पहुंचीं। इसके बाद 26 अगस्त को उन्होंने मैसूर के नजराबाद पुलिस स्टेशन में लिंगायत संत के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web