SEVA की संस्थापक इला भट्ट का निधन, भारत के पहले मज़दूर संगठन से की जीवन की शुरुआत, मिले पद्मश्री, पद्मभूषण और कई पुरस्कार

इला बहन ने भारत की महिलाओं के सामाजिक और आर्थिक विकास की दिशा में अहम कार्य किया।
 
SEVA की संस्थापक इला भट्ट का निधन, भारत के पहले मज़दूर संगठन से की जीवन की शुरुआत, मिले पद्मश्री, पद्मभूषण और कई पुरस्कार

नई दिल्ली। सेवा की संस्थापक इला भट्ट का देहांत हो गया है। इला बहन ने भारत की महिलाओं के सामाजिक और आर्थिक विकास की दिशा में अहम कार्य किया। 1972 में सेल्फ-एम्पलॉयड वीमन एसोसिएशन (SEVA) नामक महिला व्यापार संघ की स्थापना की थी। 12 लाख से अधिक महिलाएं इसकी सदस्य हैं। 1977 में इला रमेश भट्ट को सामुदायिक नेतृत्व श्रेणी में 'मेग्सेसे पुरस्कार' दिया गया। 1984 में उन्हें स्वीडिश पार्लियामेंट द्वारा 'राइट लिवलीहुड' अवार्ड मिला। इला रमेश भट्ट को भारत सरकार द्वारा 1985 में 'पद्मश्री' की उपाधि मिली। अगले ही वर्ष 1986 में उन्हें 'पद्मभूषण' सम्मान दिया गया।

विज्ञापन: जयपुर में निवेश का अच्छा मौका JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 3.21 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

इला भट्ट ने भारत के पहले मज़दूर संगठन कपड़ा कारगार संघ के महिला प्रकोष्ठ के नेतृत्व से 1968 में अपने सार्वजनिक जीवन की शुरुआत करने वाली इला भट्ट ने अनौपचारिक क्षेत्र में श्रम करने वाली गरीब स्त्रियों को सम्पूर्ण रोज़गार दिलाने स्वयंसेवी का के किये गये संस्थानीकरण की कोशिशों में अनूठा स्थान है। सेल्फ़ इम्पलॉयड वुमॅन एसोसिएशन (सेवा) की शुरुआत इला भट्ट ने 1971 में केवल सात सदस्यों के साथ की थी। आज इसके साथ तेरह लाख से ज़्यादा स्त्रियाँ जुड़ी हैं। यह संगठन अनपढ़ कामगार महिलाओं का अपना बैंक चलाता है जिसके ज़रिये औरतों को स्वरोज़गार के लिए पूँजी मुहैया करायी जाती है। यह नारी आंदोलन, मज़दूर आंदोलन और सहकारिता आंदोलन का एक संगम है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web