Punjab Governor: पंजाब विधानसभा में स्पेशल सेशन बुलाने से गवर्नर का इनकार, कहा कानून में ऐसा कोई प्रावधान नहीं

पंजाब विधानसभा की प्रक्रिया और कार्य संचालन के नियमों में केवल 'विश्वास प्रस्ताव' पर विचार करने के लिए विधानसभा बुलाने के संबंध में कोई विशेष प्रावधान नहीं है।

 
punjab cm

चंड़ीगढ़। पंजाब के गवर्नर बनवारी लाल पुरोहित ने AAP ने 22 सितंबर यानी आज पंजाब विधानसभा में विश्वासमत लाने के लिए स्पेशल सेशन बुलाने से इनकार कर दिया है। गवर्नर ने अपने आदेश में स्पष्ट किया है कि केवल विश्वास प्रस्ताव को साबित करने के लिए स्पेशल सेशन बुलाने का कोई कानूनी प्रावधान नहीं है।

यह खबर भी पढ़ें: अनोखी परम्परा: यहां सिर्फ जिंदा ही नहीं बल्कि मर चुके लोगों की भी की जाती है शादी

आपको बता दे एडिशनल सॉलिसिटर जनरल सत्यपाल जैन से कानूनी राय मांगी गई थी। उन्होंने बताया कि पंजाब विधानसभा की प्रक्रिया और कार्य संचालन के नियमों में केवल 'विश्वास प्रस्ताव' पर विचार करने के लिए विधानसभा बुलाने के संबंध में कोई विशेष प्रावधान नहीं है। कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष प्रताप सिंह बाजवा, विधायक सुखपाल सिंह खैहरा और विधायक एवं पंजाब भाजपा अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने सेशन बुलाने पर सवाल उठाए थे।

दरअसल, पंजाब के CM भगवंत मान ने वीडियो जारी कर कहा था, लोगों का भरोसा कितना मजबूत है, यह कानूनी रूप से दिखाने के लिए 22 सितंबर को पंजाब विधानसभा का स्पेशल सेशन बुलाने का फैसला लिया गया। बीते दिनों लोगों ने देखा कि लोट्स ऑपरेशन के तहत किस प्रकार भाजपा के लोगों ने AAP के विधायकों से संपर्क कर उन्हें पैसे और अन्य प्रकार के लालच दिए। 

यह खबर भी पढ़ें: इस गांव में लोग एक-दुसरे को सीटी बजाकर बुलाते हैं, जो लोग सीटी नहीं बजा पाते...

जिस पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, राज्यपाल कैबिनेट द्वारा बुलाए सत्र को कैसे मना कर सकते हैं? फिर तो जनतंत्र खत्म है। दो दिन पहले राज्यपाल ने सत्र की इजाजत दी। जब ऑपरेशन लोटस फेल होते दिखा और संख्या पूरी नहीं हुई तो ऊपर से फोन आया कि इजाजत वापस ले लो। आज देश में एक तरफ संविधान है और दूसरी तरफ ऑपरेशन लोटस।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web