महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट, शिवसेना विवाद पर सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच में हुई सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने 25 अगस्त को 3 महीने की सुनवाई के बाद केस को संवैधानिक बेंच में ट्रांसफर कर दिया था।

 
महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट, शिवसेना विवाद पर सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच में हुई सुनवाई

मुंबई। महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट के बीच शिवसेना विवाद पर सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच में सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान शिंदे गुट के वकील नीरज किशन कौल ने कहा कि पार्टी सिंबल का मामला है, चुनाव आयोग को निर्णय लेने दें, जिसका उद्धव गुट ने विरोध किया। जिसपर उद्धव गुट के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि विधायकों के अयोग्यता पर सुनवाई होनी है। ऐसे में विधायकों की मांग पर चुनाव आयोग कैसे सुनवाई कर सकती है? सिब्बल ने आगे कहा की अगर शिंदे को शिवसेना का निशान मिल गया, तो सुनवाई व्यर्थ हो जाएगी। कोर्ट में अगली सुनवाई 27 सितंबर को होगी।

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

आपको बता दे, सुप्रीम कोर्ट ने 25 अगस्त को 3 महीने की सुनवाई के बाद केस को संवैधानिक बेंच में ट्रांसफर कर दिया था। शिवसेना का विवाद 20 जून से शुरू हुआ था, जब शिंदे के नेतृत्व में 20 विधायक सूरत होते हुए गुवाहाटी चले गए थे। इसके बाद शिंदे गुट ने शिवसेना के 55 में से 39 विधायक के साथ होने का दावा किया, जिसके बाद उद्धव ठाकरे ने इस्तीफा दे दिया था। तो वही पिछली सुनवाई के दौरान मुख्यमंत्री एकनाथ श‍िंदे ने कहा था क‍ि हमारे ऊपर अयोग्‍यता का आरोप गलत लगाया गया है। हम अभी भी श‍िवसैनिक हैं। 

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

उधर, सुप्रीम कोर्ट में उद्धव ठाकरे गुट की ओर से वकील कपिल सिब्बल ने कहा था कि शिंदे गुट में जाने वाले विधायक संविधान की 10वीं अनुसूची के तहत अयोग्यता से तभी बच सकते हैं, अगर वो अलग हुए गुट का किसी अन्य पार्टी में विलय कर देते हैं। उन्होंने कहा था कि उनके बचाव का कोई दूसरा रास्ता नहीं है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web