Pitru Paksha 2022: पितृ पक्ष में भूल से भी न करें ये सब काम, जानिए कब शुरू हो रहे हैं ये

 
Pitru Paksha

नई दिल्ली। हिंदू धर्म में पितृ पक्ष (Pitru Paksha) का विशेष महत्व होता है और इस दौरान लोग अपनों पितरों का तर्पण करते हैं। साथ ही पूरे विधान के साथ उनका पिंडदान करते हैं और कहा जाता है कि ऐसा करने से पितरों की आत्मा को शांति मिलती है। अगर आप भी अपने पितरों की आत्मा की शांति और उनका आशीर्वाद पाना चाहते हैं तो पितृ पक्ष में नियमानुसार उनका तर्पण अवश्य करें। आइए जानते हैं कि कब शुरू हो रहे हैं। पितृ पक्ष और और इस दौरान कौन से काम करने से बचे ।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

कब शुरू हो रहे हैं पितृ पक्ष 2022
हर साल भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से पितृ पक्ष शुरू होते हैं और 15 दिनों तक चलते हैं। इस बार पितृ पक्ष 10 सितंबर से शुरू होंगे और 25 सितंबर को समाप्त होंगे। इस दौरान विधि-विधान के साथ पितरों का तर्पण व पिंडदान किया जाता है। ऐसे में लोगों को कुछ नियमों का विशेष तौर पर ध्यान रखना चाहिए। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

पितृ पक्ष में ना करें ये काम

  • पितृ पक्ष 15 दिनों तक चलते हैं और इस दौरान ध्यान रखें कि घर में सात्विक माहौल होना चाहिए। पितृ पक्ष में मांसाहारी भोजन व शराब से दूर रहना चाहिए। 
  • श्राद्ध करने वाले व्यक्ति को पितृ पक्ष में 15 दिनों तक बाल व नाखून नहीं कटवाने चाहिए। इसलिए पितृ पक्ष शुरू होने से पहले सही ये सभी काम करवा लें। 
  • मान्यता है कि पितृ पक्ष में 15 दिनों के लिए पूर्वज पक्षी के रूप में धरती पर आते है। इसलिए गलती से भी पितृ पक्ष में किसी पक्षी को नहीं सताना चाहिए। इससे पितृ नाराज होते हैं। 
  • पितृ पक्ष व श्राद्ध में किसी भी प्रकार का मांगलिक कार्य करना निषेध होता है। इस दौरान शादी-ब्याह, मुंडन, सगाई व गृह प्रवेश वर्जित माने गए हैं। कहते हैं कि 15 दिनों तक केवल पूर्वजों की अराधना व सेवा करनी चाहिए। 
  • यह भी कहा जाता है कि पितृ पक्ष के दौरान लोगों को लौकी, खीरा, चना, जीरा व सरसों के साग का सेवन भी नहीं करना चाहिए। 

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web