Murder: नागौर कोर्ट के बाहर हरियाणा के गैंगस्टर की गोली मारकर हत्या, बॉडी भी ले गए बदमाश, देखे Photos

 
sandip

राजस्थान के नागौर में बड़ी घटना सामने आई है। यहां एक केस में गवाही देने आए हरियाणा के गैंगस्टर संदीप सेठी की गोली मारकर हत्या कर दी गई। वारदात को नागौर कोर्ट के बाहर अंजाम दिया गया।

जयपुर। राजस्थान के नागौर में बड़ी घटना सामने आई है। यहां एक केस में गवाही देने आए हरियाणा के गैंगस्टर संदीप विश्नोई (सेठी) की गोली मारकर हत्या कर दी गई। वारदात को नागौर कोर्ट के बाहर अंजाम दिया गया। घटना के बाद बदमाश सेठी की बॉडी भी साथ ले गए हैं। सूचना मिलने पर पुलिस पहुंच गई है और जांच कर रही है। पुलिस को गैंगवॉर की आशंका है।

पुलिस के अनुसार, संदीप को सुनवाई के लिए नागौर कोर्ट लाया गया था। इसी दौरान कार सवार बदमाशों ने 9 राउंड फायरिंग की, जिससे संदीप की मौके पर ही मौत हो गई। सभी शूटर ब्लैक कलर की स्कॉर्पियो में आए थे। बदमाशों का पता लगाने के लिए पुलिस ने नागौर के आसपास बैरिकेडिंग कर दी है। सभी वाहनों की जांच की जा रही है। घटना के बाद कोर्ट के बाहर भारी भीड़ जमा हो गई। संदीप विश्नोई के शव को अस्पताल में रखा गया है।

यह खबर भी पढ़ें: भूल से महिला के खाते में पहुंचे 70 लाख डॉलर और फिर...

मामले की जांच से जुड़े एक पुलिसकर्मी ने बताया कि संदीप हरियाणा का मूल निवासी था और सुपारी लेकर वारदात को अंजाम देता था। इसके साथ ही अवैध शराब तस्करी में भी शामिल था। विश्नोई सेठी गिरोह से जुड़ा था। उसने नागौर में एक व्यापारी की भी हत्या की थी। प्रथम दृष्टया ये हत्या का मामला लग रहा है। 

यह खबर भी पढ़ें: World का सबसे Dangerous Border, बिना गोली चले हो गई 4000 लोगों की मौत, कुछ रहस्‍यमय तरीके से हो गए गायब

nagaur1.jpg

गैंगस्टर राजू फौजी का खास दोस्त था संदीप
भीलवाड़ा में दो आरक्षकों की हत्या करने वाला तस्कर राजू फौजी और गैंगस्टर संदीप विश्नोई भी काफी करीबी दोस्त थे। संदीप ने ही पुलिसकर्मियों को मारने के लिए राजू फौजी को हथियार दिए थे। संदीप ने पुलिस पूछताछ में बताया था कि उसने अपने गिरोह को चलाने के लिए उत्तर प्रदेश के एक सप्लायर से हथियार खरीदे थे। फौजी कुख्यात गैंगस्टर भी है।

यह खबर भी पढ़ें: बेटी से मां को दिलाई फांसी, 13 साल तक खुद को अनाथ मानती रही 19 साल की बेटी, जाने क्या था मामला

nagaur2

2016 में फौजी ने मदद की तो बन गए दोस्त
2016 में विश्नोई बाड़मेर में छिपा था, इस दौरान फौजी ने उसकी मदद की थी। इसके बाद फौजी और संदीप के बीच अच्छी दोस्ती हो गई। पुलिस पूछताछ में पता चला कि गैंगस्टर संदीप ने राजू फौजी को रिवॉल्वर, पिस्टल समेत कई हथियार दिए थे। संदीप ने बताया था कि उसने इसके लिए फौजी से कोई पैसा नहीं लिया। सिपाही की हत्या के बाद फौजी उसके साथ हरियाणा में रहा।

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

nagaur3

30 लाख सुपारी लेकर हत्या की थी
तीन साल पहले 29 नवंबर 2019 को नागौर हत्याकांड में पहली बार संदीप विश्नोई का नाम सामने आया था। पूछताछ में पता चला कि एक महिला ने अपने पति की हत्या का बदला लेने के लिए साजिश रची थी। महिला ने हरियाणा के गैंगस्टर संदीप विश्नोई को हत्या के लिए 30 लाख रुपये सुपारी दी थी। इस मामले में गैंगस्टर संदीप नागौर जेल में बंद था।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

nagaur4

सांसद ने घटना पर उठाए सवाल
वहीं, इस घटना के बाद माहौल भी गरमा गया है। सांसद बेनीवाल ने पुलिस की संवेदनशीलता पर सवाल उठाए हैं। सांसद ने कहा कि नागौर शहर में न्यायालय परिसर में सरेआम फायरिंग करके एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई। ये घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। जिला कलेक्टर और जिला पुलिस अधीक्षक का आवास इस न्यायालय परिसर से महज 50 मीटर दूर है। कलेक्टर, एसपी का कार्यालय महज वहां से 100 मीटर दूर है। 

उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले में पुलिस और प्रशासन की जिम्मेदारी तय की जाए। नागौर समेत प्रदेश में बढ़ते अपराध चिंता का विषय हैं। प्रदेश की कानून व्यवस्था वेंटिलेटर पर है। इस तरह की घटनाएं राजस्थान में जंगलराज होने का प्रमाण हैं।

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

अपराधियों की पहली पसंद बन गया राजस्थान: बीजेपी
राजस्थान बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने अशोक गहलोत सरकार पर हमला बोला। पूनिया ने कहा कि नागौर में सरेआम गैंगवार वो भी बिल्कुल बेखौफ। गहलोतजी आपकी सरकार किसकी सुरक्षा के लिए काम कर रही है? प्रदेश अपराधियों की पहली पसंद बन चुका है और अब वह दिन दूर नहीं जब राजस्थान अपराध का पर्याय कहलाने लगेगा।
अब तो बदलाव ही समाधान है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web