Jammu & Kashmir: जम्मू के राजौरी में मारे गए हिंदुओं का हुआ अंतिम संस्कार, उमड़ी भारी भीड़

6 लोगों की मौत के बाद लोगों की आंखें नम और उनमें पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा था।
 
Jammu & Kashmir: जम्मू के राजौरी में मारे गए हिंदुओं का हुआ अंतिम संस्कार, उमड़ी भारी भीड़

श्रीनगर। जम्मू के डांगरी गांव में दो दिनों में आतंकी हमलों में मारे गए लोगों को अंतिम संस्कार हुआ। इस दौरान बड़ी तादाद में लोग डांगरी पहुंचे। 6 लोगों की मौत के बाद लोगों की आंखें नम और उनमें पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा था। डांगरी के सरपंच धीरज शर्मा ने बताया कि क्षेत्र में एक ग्राम रक्षा समिति (VDC) थी, लेकिन पुलिस ने 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों से हथियार ले लिए थे। उन हथियारों को फिर से अलॉट भी नहीं किया गया। अगर, VDC के लोगों के पास हथियार होते तो वे आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देते। धीरज शर्मा का कहना था कि पाकिस्तान अपनी करतूतों से बाज नहीं आने वाला है। ऐसे में अब लोग अपनी सुरक्षा के लिए हथियार उठाने को तैयार हैं।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

पाकिस्तान की नफरत फैलाने की साजिशें नाकाम होंगी। हाईवे पर बैठे लोगों में आतंकियों से दहशत नहीं, गुस्सा ज्यादा था। लोगों में जिला प्रशासन और पुलिस के खिलाफ भी रोष था। उनका आरोप था कि पूरे इलाके में तलाशी अभियान न चलाने की वजह से ही बीते दिन धमाका हुआ। राजौरी म्युनिसिपल काउंसिल के उपाध्यक्ष भारत भूषण ने भी ग्राम सुरक्षा समितियों को हथियार मुहैया कराने की अपील की है। राजौरी बंद के दौरान राजौरी-पुंछ नेशनल हाईवे पर शवों को सड़क पर रख कर लोगों ने प्रदर्शन किया। अधिक सुरक्षा की मांग और टारगेटेड किलिंग के विरोध में ग्रामीणों का कहना था कि वारदात पर लगाम नहीं लग पा रही हैं। स्थानीय लोगों की मांग पर जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा देर शाम मौके पर पहुंचे। डांगरी के ग्रामीण बाला ने बीते दिन आंतकी फायरिंग का जवाब अपनी बंदूक से दिया। जवाबी फायरिंग से आतंकी भाग छूटे। पुलिस डीजी दिलबाग सिंह ने कहा है कि ग्राम रक्षा समिति से बंदूकें वापस नहीं ली जाएंगी।

यह खबर भी पढ़ें: अनोखी शादी: प्रेमी ने प्रेमिका के शव से रचाई शादी, पहले भरी मांग फिर पहनाई जयमाला, जानिए पूरा मामला...

दरअसल, डांगरी में हिंदुओं की हत्या के विरोध में प्रदर्शन किया जा रहा था। इसके खत्म होने के कुछ देर बाद ही एक घर में धमाका हुआ और अफरा-तफरी मच गई। इसके बाद पुलिस ने पूरा इलाका सील कर दिया। लोगों ने बताया कि रविवार शाम आतंकवादी आए और लोगों को घरों से बाहर निकाला। वे सभी का आधार कार्ड देख रहे थे। इसके बाद उन्होंने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। हमले में सतीश कुमार (45), प्रीतम लाल (56), शिवपाल (32) की मौत हो गई। चौथे मृतक का नाम अभी सामने नहीं आया है।

यह खबर भी पढ़ें: OMG: 83 साल की महिला को 28 साल के युवक से हुआ प्यार, शादी के लिए विदेश से पहुंची पाकिस्तान

तो वहीं, एक खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तानी आतंकवादी भारत में घुसपैठ के लिए राजौरी सेक्टर में LOC पर फॉरवर्ड डिफेंस लोकेशन को निशाना बना रहे हैं। राजौरी सेक्टर के पास पाकिस्तान की तरफ चार लॉन्चिंग पैड हैं। लगभग 25-30 आतंकवादी कोटली, लंजोटे, निकल और खुइरेटा में इन लॉन्चिंग पैड्स का उपयोग करके भारत में घुसपैठ करने की योजना बना रहे हैं।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web