Gyanvapi Case: ज्ञानवापी शृंगार गौरी मामले में आज आएगा कोर्ट का अहम फैसला, वाराणसी में सुरक्षा के कड़े इंतजाम के साथ धारा 144 लागू

पिछली सुनवाई पर दोनों पक्ष की बहस पूरी होने के बाद अदालत ने सुनवाई के लिए 12 सितंबर यानी आज की तिथि तय की थी। 

 
Gyanvapi Case: ज्ञानवापी शृंगार गौरी मामले में आज आएगा कोर्ट का अहम फैसला, वाराणसी में सुरक्षा के कड़े इंतजाम के साथ धारा 144 लागू

वाराणासी। करीब साल भर पहले ज्ञानवापी मस्जिद में श्रृंगार-गौरी की पूजा के लिए दायर की गई याचिका पर आज दोपहर तक महतवपूर्ण फैसला आएगा। ज्ञानवापी मस्जिद शृंगार गौरी केस की मेरिट पर आज जिला जज डॉ. अजय कृष्ण विश्वेश की अदालत में फैसला आने की उम्मीद है। फैसले में तय हो जाएगा कि अदालत में दायर याचिका सुनने लायक है या नहीं। पिछली सुनवाई पर दोनों पक्ष की बहस पूरी होने के बाद अदालत ने सुनवाई के लिए 12 सितंबर यानी आज की तिथि तय की थी। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

वहीं सोमवार को फैसले के मद्देनजर पुलिस हाईअलर्ट पर है। शहर में धारा-144 लागू कर दी गई है। सार्वजनिक स्थल, स्टेशन, रोडवेज, घाट, मंदिर व संवेदनशील स्थलों पर रात से निगरानी बढ़ा दी गई है। ज्ञानवापी क्षेत्र में पुलिस अधिकारियों ने फुट पेट्रेालिंग का निर्देश दिया है। उधर, धर्मगुरुओं व प्रबुद्धजनों के साथ थानावार बैठक कर शांति और सौहार्द्र बनाए रखने की अपील की गई है।


ज्ञानवापी केस में श्रृंगार-गौरी की पूजा की मांग करने वाले पक्ष के वकील विष्णु शंकर जैन को उम्मीद है कि फैसला उनके पक्ष में आएगा। पांच महिला याचिकर्ताओं के वकील विष्णु शंकर जैन ने कहा कि उम्मीद है कि फैसला हमारे पक्ष में आएगा। इस केस में मस्जिद कमेटी की तरफ से 1991 के प्लेस आफ वरशिप एक्ट का हवाला दिया गया।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

फैसले को लेकर हिन्दू पक्ष की है तैयारी
वादी महिलाओं के द्वारा याचिका लगाई गई थी कि श्रृंगार गौरी मंदिर में 1991 से पहले की तरह हर दिन पूजा अर्चना का अधिकार मिले। अगर फैसला वादी महिलाओं के पक्ष में आता है तो बनारस में सभी हिंदुओं द्वारा रात 8 बजे से 8.15 तक अपने घरों के छत पर आकर शंख, घंटी और थाली बजाई जाएगी। इसकी जानकारी भी सभी को दे दी गयी है। हिन्दू पक्ष का कहना है कि अगर फैसला हमारे पक्ष में आता है तो ये आदि विश्वेश्वर को मुक्त कराने की दिशा में पहला कदम होगा।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web