विदेश मंत्री एस जयशंकर बोले, भारत अपनी प्राथमिकता में पड़ोसियों को सबसे पहले रखता है, जानिए और क्या कहा...

श्रीलंका की आर्थिक हालत सुधारने के लिए भारत ने दूसरों का इंतजार किए बिना ही उचित कदम उठाए। 
 
विदेश मंत्री एस जयशंकर बोले, भारत अपनी प्राथमिकता में पड़ोसियों को सबसे पहले रखता है, जानिए और क्या कहा...

नई दिल्ली। भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने श्रीलंका को बुरे समय में अकेला न छोड़ने की बात कही है। उन्होंने कहा कि भारत अपनी प्राथमिकता में पड़ोसियों को सबसे पहले रखता है। श्रीलंका की आर्थिक हालत सुधारने के लिए भारत ने दूसरों का इंतजार किए बिना ही उचित कदम उठाए। एस जयशंकर श्रीलंका के दो दिवसीय दौरे पर हैं। दूसरे दिन शुक्रवार को उन्होंने श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे और विदेश मंत्री अली साबरी समेत कई नेताओं से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने श्रीलंका सरकार से भारतीय मूल के तमिल समुदाय के लोगों की जरूरतों पर विशेष ध्यान देने के लिए भी कहा।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

श्रीलंका इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड (IMF) से 2.9 बिलियन डॉलर का बेलआउट पैकेज लेने की कोशिश कर रहा है। इसके लिए श्रीलंका को कर्ज देने वाले 3 बड़े देशों- भारत, चीन और जापान का IMF को वित्तीय आश्वासन देना जरूरी है। भारत ने सबसे पहले 16 जनवरी को IMF को लिखित में वित्तीय आश्वासन दिया है, ताकि श्रीलंका को IMF से मदद मिल सके। जयशंकर ने दूसरे कर्जदाताओं से भी श्रीलंका की मदद करने के लिए कहा है। 

यह खबर भी पढ़ें: अनोखी शादी: दो महिलाओं ने एक ही लड़के से कर ली शादी, वजह जानकर आप भी रह जाओगे हैरान

जयशंकर ने श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे को पीएम मोदी की तरफ से भारत आने का निमंत्रण दिया। उन्होंने कहा कि भारत एक विश्वसनीय और भरोसेमंद साथी है। जरूरत पड़ने पर वह श्रीलंका के साथ एक मील ज्यादा चलने के लिए तैयार है। वहीं, विदेश मंत्री ने कहा कि भारत श्रीलंका की इकोनॉमी में निवेश को बढ़ावा देगा। खासकर ऊर्जा, पर्यटन और इंफ्रास्ट्रक्चर जैसे मुख्य क्षेत्रों में। उन्होंने श्रीलंका के लिए ऊर्जा संकट को सबसे गंभीर चुनौती बताया।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web