फारूक अब्दुल्ला ने राहुल गांधी की तुलना शंकराचार्य से की, कहा- राहुल दूसरे ऐसे, जिसने कन्याकुमारी से कश्मीर तक यात्रा निकाली

फारूक अब्दुल्ला ने कहा, सदियों पहले शंकराचार्य यहां आए थे। वह तब चले जब सड़कें नहीं थीं, लेकिन जंगल थे।

 
फारूक अब्दुल्ला ने राहुल गांधी की तुलना शंकराचार्य से की, कहा- राहुल दूसरे ऐसे, जिसने कन्याकुमारी से कश्मीर तक यात्रा निकाली

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने राहुल गांधी की तुलना आदि शंकराचार्य से की है। उन्होंने कहा कि वह शंकराचार्य के बाद कन्याकुमारी से जम्मू कश्मीर तक यात्रा निकालने वाले दूसरे व्यक्ति हैं। अब्दुल्ला ने ये भी कहा कि ये राम और गांधी का देश है। बता दें कि भारत जोड़ो यात्रा ने गुरुवार शाम को जम्मू में एंट्री ली, आज तीन दिन है। फारूक अब्दुल्ला ने कहा, सदियों पहले शंकराचार्य यहां आए थे। वह तब चले जब सड़कें नहीं थीं, लेकिन जंगल थे। वह कन्याकुमारी से पैदल चलकर कश्मीर गए थे। राहुल गांधी दूसरे व्यक्ति हैं, जिन्होंने उसी कन्याकुमारी से यात्रा निकाली और कश्मीर पहुंच रहे हैं। फारूक अब्दुल्ला ने आगे कहा कि जब तक पाकिस्तान के साथ बातचीत नहीं हो जाती, तब तक यह मुद्दा जीवित रहेगा। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

अब्दुल्ला ने यह भी कहा, मैं आपको अपने खून से लिखित में देने जा रहा हूं कि आतंकवाद जिंदा है और यह तब तक खत्म नहीं होगा जब तक आप पाकिस्तान से बात नहीं करेंगे। फारूक अब्दुल्ला ने यह भी कहा कि भारत जोड़ो यात्रा का उद्देश्य नफरत के खिलाफ देश को एकजुट करना है। यह गांधी और राम का देश है, जहां हम सभी एक हैं। भारत में नफरत पैदा की जा रही है और धर्मों को एक दूसरे के खिलाफ खड़ा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गांधी और राम का भारत वह था जहां हम सब एक थे। यह यात्रा भारत को एक करने का प्रयास कर रही है। इसके दुश्मन भारत, मानवता और लोगों के दुश्मन हैं।

यह खबर भी पढ़ें: Video: शख्स मगरमच्छ के मुंह में हाथ डालकर दिखा रहा था दिलेरी, तभी हुआ कुछ ऐसा कि...

जम्मू-कश्मीर में दाखिल होने से पहले राहुल ने पठानकोट बॉर्डर पर कहा, मैं जानता हूं कि यहां के लोग पीड़ा में हैं, मैं समझता हूं कि हर कोई आहत है। हर इंसान परेशान है। मैं आपका दर्द बांटने आया हूं। इस दौरान राहुल के साथ बड़ी संख्या में समर्थक मौजूद थे। जम्मू-कश्मीर में एंट्री से पहले राहुल ने गुरुवार को पठानकोट बॉर्डर पर स्पीच दी। इस दौरान बड़ी तादाद में समर्थक मौजूद थे। राहुल बोले, पूर्वज जम्मू-कश्मीर से उत्तर प्रदेश गए थे। मैं उसी जगह जा रहा हूं। ऐसा लगा, जैसे घर वापस आ गया। जब कोई अपनी जड़ों की ओर लौटता है तो वह अपने बारे में और अपने देश के लोगों के बारे में काफी कुछ सीखता है।

यह खबर भी पढ़ें: OMG: 83 साल की महिला को 28 साल के युवक से हुआ प्यार, शादी के लिए विदेश से पहुंची पाकिस्तान

उन्होंने आगे कहा, आपकी जमीन में दाखिल होने से पहले मैं सिर झुकाता हूं। मैं आपसे कहना चाहता हूं कि भले ही आपका कोई भी धर्म हो, जाति हो, आप अमीर हों या गरीब हों, जवान हों या बूढ़े हों, ये देश आपका है और आप इस देश के हैं। राहुल ने कहा कि अगले 9 दिन मैं जम्मू कश्मीर के लोगों से सिर्फ सीखूंगा। उनसे कुछ भी नहीं कहूंगा। कांग्रेस नेता बोले, देश जो वास्तविक समस्याएं झेल रहा है, वो हैं नफरत, बेरोजगारी, महंगाई। इसके अलावा 2 तरह का भारत, एक करोड़पतियों का और दूसरा गरीबों का। भाजपा, संघ और करोड़पतियों की टीम मिलकर काम कर रही है ताकि मुख्य मुद्दों से देश का ध्यान भटकाया जा सके। मीडिया भी केवल हिंदू-मुस्लिम और नफरत जैसे मुद्दे उठा रहा है।

आपको बात दे, तमिलनाडु के कन्याकुमारी से 7 सितंबर 2022 को शुरू हुई भारत जोड़ो यात्रा 19 जनवरी 2023 को जम्मू-कश्मीर पहुंची। 125 दिन में राहुल देश के 13 राज्यों से गुजरे। जम्मू-कश्मीर में वे 9 दिन रहेंगे। यात्रा 30 जनवरी को खत्म होगी।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web