Delhi Kanjhawala case: कंझावला केस में आरोपियों पर चलेगा हत्या का मुकदमा, FIR में धारा 302 जोड़ी गई, जानिए पूरा मामला...

जज ने उसे इस शर्त पर जमानत दी कि वह सबूतों से छेड़छाड़ नहीं करेगा और दिल्ली NCR छोड़कर नहीं जाएगा। 
 
Delhi Kanjhawala case: कंझावला केस में आरोपियों पर चलेगा हत्या का मुकदमा, FIR में धारा 302 जोड़ी गई, जानिए पूरा मामला...

नई दिल्ली। दिल्ली के कंझावला हिट एंड ड्रैग केस में अब हत्या का मुकदमा चलेगा। इसमें एक युवती की मौत हो गई थी। मंगलवार को पुलिस ने FIR में धारा 302 भी जोड़ दी। इस मामले में 5 मुख्य आरोपी अभी पुलिस कस्टडी में हैं, जबकि दो को जमानत मिल चुकी है। आज ही लोकल कोर्ट ने आरोपी आशुतोष भारद्वाज को जमानत दी है। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

आशुतोष ने जमानत याचिका दायर कर कहा था कि अंजलि को कार में खींचने की घटना से उसका कोई लेना देना नहीं है। घटना के दौरान वह कार में नहीं था। वहीं, इस दलील को मानते हुए एडिशनल सेशंस जज सुशील बाला डागर ने 50 हजार रुपए के बेल बॉन्ड पर उसे जमानत दे दी। उन्होंने कहा कि इस केस में आशुतोष का रोल तब शुरू हुआ जब घटना हो चुकी थी। जज ने उसे इस शर्त पर जमानत दी कि वह सबूतों से छेड़छाड़ नहीं करेगा और दिल्ली NCR छोड़कर नहीं जाएगा। जांच में सहयोग देगा और फोन हर समय चालू रखेगा।

यह खबर भी पढ़ें: अनोखी शादी: दो महिलाओं ने एक ही लड़के से कर ली शादी, वजह जानकर आप भी रह जाओगे हैरान

इस केस में पुलिस ने 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया था। जिसमें से एक आरोपी अंकुश खन्ना को 7 जनवरी को जमानत दे दी गई थी। उसने इस केस में अपने भाई को बचाने की साजिश रची थी और बाकी आरोपियों को छुपाने की भी कोशिश की थी। कोर्ट ने 20 हजार रुपए के निजी मुचलके पर उसे जमानत देते हुए कहा कि जांच में जरूरत पड़ने पर आना होगा। अंकुश खन्ना ने 6 जनवरी को सुल्तानपुरी थाने में सरेंडर किया था। उसने अपने बयान में पुलिस से झूठ बोला था। अंकुश ने कहा था कि हादसे के वक्त कार उसका भाई अमित खन्ना नहीं, बल्कि दीपक चला रहा था। हालांकि बाद में पुलिस जांच में पता चला कि अमित ही गाड़ी चला रहा था और उसके पास ड्राइविंग लाइसेंस भी नहीं था।

यह खबर भी पढ़ें: Viral Video: जेब्रा बनकर जंगल में गेड़ी मार रहा था शख्स, वीडियो देख नहीं रोक पायेंगें हंसी

आपको बता दे, कंझावला इलाके में 31 दिसंबर की देर रात करीब 1.30 बजे कार सवार चार लोगों ने एक स्कूटी को टक्कर मार दी थी। स्कूटी पर अंजलि और उसकी दोस्त बैठी थी। दोस्त वहीं गिर गई जबकि अंजलि कार के नीचे फंस गई। आरोपियों ने उसे 12 किमी तक घसीटा था। पुलिस जांच में सामने आया कि यह कार आशुतोष की थी।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web