Cracker Ban: ...तो क्या नहीं जलेंगें दिवाली पर पटाखे? बिक्री और उपयोग पर प्रतिबंध जारी!

 
patakha

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को हरित पटाखों के कारोबारियों से पूछा कि क्या उनके लिए यह उचित नहीं है कि वे आगामी महीनों के दौरान शहर में सभी प्रकार के पटाखों की बिक्री और उपयोग पर लगे प्रतिबंध के खिलाफ शीर्ष अदालत का रुख करें। उच्च न्यायालय ने पटाखों और पर्यावरण पर उनके प्रभाव से संबंधित मामला उच्चतम न्यायालय के समक्ष लंबित होने के मद्देनजर यह टिप्पणी की।

उच्च न्यायालय पटाखों के विक्रेताओं की याचिकाओं पर सुनवाई कर रहा था, जिनमें “केवल हरित पटाखों की खरीद, बिक्री और भंडारण” की अनुमति मांगी गई है। अदालत ने मामले की सुनवाई सात अक्टूबर तक के लिए स्थगित कर दी ताकि उच्चतम न्यायलय से समक्ष चल रही कार्यवाही के दायरे के बारे में और स्पष्टता हासिल की जा सके।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा ने कहा, “क्या (विक्रेताओं की) एसोसिएशन के लिए यह उचित नहीं है कि वह वहां (सर्वोच्च न्यायालय में) एक आवेदन दायर करे, जहां मामला अभी लंबित है?” अदालत ने कहा, “पेश की गई सामग्री के आधार पर प्रतीत होता है कि पटाखों की बिक्री व पर्यावरण पर इसके प्रभाव का मुद्दा सर्वोच्च न्यायालय के विचाराधीन है। (इसलिए) मुद्दा यह है कि क्या वर्तमान याचिका पर अलग से विचार किया जाना चाहिए या नहीं?”

हरित पटाखों के कारोबारियों ने आने वाले महीनों के दौरान शहर में सभी प्रकार के पटाखों की बिक्री और उपयोग पर दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) की ओर से लगाए गए प्रतिबंध के खिलाफ उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। दिल्ली सरकार के वकील ने कहा कि प्रतिबंध लगाने का आदेश शहर की वायु गुणवत्ता को देखते हुए जारी किया गया था, जो खराब हो रही थी।

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

याचिकाकर्ताओं, ‘शिवा फायरवर्क्स’ और ‘जय माता स्टोर्स’ ने अपनी याचिका में कहा कि दिल्ली में वायु गुणवत्ता 15 अगस्त से “मध्यम” रही है, लिहाजा हरित पटाखों के इस्तेमाल पर भी प्रतिबंध लगाने की जरूरत नहीं है। याचिकाकर्ताओं ने जोर देकर कहा कि 14 सितंबर को डीपीसीसी की ओर से “अंतिम क्षणों में लगाया गया प्रतिबंध” मनमाना और अवैध है तथा इससे उनकी आजीविका पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web