Shraddha Murder Case में 6 हजार पेज की चार्जशीट दाखिल, 100 लोगों के बयान और इलेक्ट्रॉनिक फोरेंसिक सबूत शामिल, जानें पूरा मामला...

दिल्ली पुलिस के जॉइंट कमिश्नर मीनू चौधरी ने बताया जिस दिन ये घटना हुई थी, उस दिन श्रद्धा अपने दोस्त के घर गई थी।
 
Shraddha Murder Case में 6 हजार पेज की चार्जशीट दाखिल, 100 लोगों के बयान और इलेक्ट्रॉनिक फोरेंसिक सबूत शामिल, जानें पूरा मामला...

नई दिल्ली। श्रद्धा वालकर मर्डर केस में दिल्ली पुलिस ने साकेत कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है। करीब छह हजार पेज की चार्जशीट में 100 लोगों के बयान और इलेक्ट्रॉनिक फोरेंसिक सबूत शामिल हैं। दिल्ली पुलिस के जॉइंट कमिश्नर मीनू चौधरी ने बताया जिस दिन ये घटना हुई थी, उस दिन श्रद्धा अपने दोस्त के घर गई थी, जिससे गुस्साए आफताब ने उसकी हत्या कर दी। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

आफताब ने श्रद्धा के 35 टुकड़े करके छतरपुर के जंगल में फेंक दिए थे। वहां से दिल्ली पुलिस को शव के कुछ टुकड़े मिले थे। जांच में साइंटिफिक मेथड का इस्तेमाल किया गया। डिजिटल सबूत के तौर पर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, GPS लोकेशन को भी ट्रैक किया गया है। तो वहीं, जनवरी की शुरुआत में दिल्ली की साकेत कोर्ट ने पूनावाला की ज्यूडिशियल कस्टडी 14 दिन और बढ़ा दी थी। इस दौरान कोर्ट के सामने आफताब ने कस्टडी में पढ़ने के लिए कानून की कुछ किताबें मांगीं। मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट अविरल शुक्ला के सामने कोर्ट में पेश किया गया। जहां उन्होंने जेल अधिकारियों से आफताब को गर्म कपड़े मुहैया कराने का निर्देश दिया।

यह खबर भी पढ़ें: Love Story: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी, तस्वीरों में देखें प्यार की दास्तां

आपको बता दे, आफताब ने अपनी लिव इन पार्टनर श्रद्धा वालकर की 18 मई को हत्या कर दी थी। इसके बाद उसने श्रद्धा के शव के 35 टुकड़े किए थे। इन टुकड़ों को रखने के लिए वह 300 लीटर का फ्रिज लेकर आया था। पुलिस ने आफताब को गिरफ्तार कर महरौली के जंगलों से श्रद्धा की हडि्डयां बरामद की थीं। 28 साल का आफताब पूनावाला पिछले साल नवंबर से न्यायिक हिरासत में है। आफताब ने पहले दिल्ली की एक अदालत को बताया था कि उसने अपनी साथी श्रद्धा वाकर को 'पल की गर्मी' में मार डाला था।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web