जहरीली शराब से बिहार के मोतिहारी में 19 की मौत, मामला सुर्खियों में आने पर SP ने छह को किया सस्पेंड

 
wine dead

नई दिल्ली। Bihar News: बिहार के मोतिहारी जिले में संदिग्ध जहरीली शराब से अब तक 19 लोगों की मौत हो चुकी है। घटना के बाद इलाके में हड़कंप मचा हुआ है। यह मामला सुर्खियों में आने के बाद एसपी ने 6 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। पुलिस सख्ती से जांच में जुटी हुई है।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

बिहार में एक बार फिर जहरीली शराब का कहर दिखा है। बताया जा रहा है कि मोतिहारी जिले में जहरीली शराब से अब तक 19 लोगों की मौत हो चुकी है। शराब पीने के बाद जिन लोगों की तबीयत बिगड़ी, उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने डॉक्टर्स को खुद बताया था कि उन्होंने शराब पी थी, जिसके बाद तबीयत खराब हुई।

यह खबर भी पढ़ें: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

जानकारी के अनुसार, यह मामला पूर्वी चंपारण का है, जहां जहरीली शराब से लोगों की मौत हुई है। इस घटना के बाद इलाके में अफरा-तफरी मच गई। मृतकों की संख्या में इजाफा हुआ है। बताया जा रहा है कि अब तक 19 लोगों की मौत हो चुकी है। तुरकौलिया के नरियरवा गांव निवासी भूटा पासवान, जयसिंहपुर निवासी गुड्डू सहनी और हरसिद्धि के मठलोहियार गांव निवासी हीरालाल मांझी की भी मौत हुई है।

जहरीली शराब कांड को मोतिहारी एसपी ने संज्ञान लिया है। एसपी ने एटीएफ के दो अधिकारियों व चार चौकीदारों को निलंबित कर दिया है। सुगौली, हरसिद्धि, तुरकौलिया व पहाड़पुर के एक-एक चौकीदार को सस्पेंड किया गया है।

यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

बिहार में शराबबंदी का नियम क्या है?
शराबबंदी नीति में हुए संशोधन के मुताबिक, बिहार में पहली बार शराब पीते पकड़े जाने पर दोषियों को 2,000 रुपये से 5,000 रुपये के बीच जुर्माना भरने के बाद रिहा किया जाएगा, जेल नहीं होगी। यदि पहली बार अपराधी दंड का भुगतान करने में विफल रहता है तो उसे एक महीना जेल में बिताना पड़ेगा।

यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

यदि कोई व्यक्ति दूसरी बार शराब का सेवन करता हुआ पकड़ा जाता है तो उसे एक साल के लिए सलाखों के पीछे डाल दिया जाएगा। अब तक शराबबंदी का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ 3.8 लाख मामले दर्ज किए गए। इनमें से सिर्फ चार हजार मामलों का ही निस्तारण किया गया है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web