इन रक्त समूह वाले लोगों को जल्दी आ सकते है हार्ट अटैक, आप भी जानिए...

ब्लड ग्रुप बी वाले लोगों में ओ-टाइप ग्रुप की तुलना में दिल का दौरा पड़ने का खतरा 15 प्रतिशत अधिक था।

 
इन रक्त समूह वाले लोगों को जल्दी आ सकते है हार्ट अटैक, आप भी जानिए...

नई दिल्ली। रक्त के प्रकारों को चार समूहों में वर्गीकृत किया जाता है, अर्थात् ए, बी, एबी और ओ। ये चार रक्त समूह रक्त में मौजूद या अनुपस्थित एंटीजन की संख्या के आधार पर एक दूसरे से भिन्न होते हैं। "+" और "-" उप-वर्गीकरण एक एंटीजन की उपस्थिति या अनुपस्थिति के आधार पर किया जाता है, जिसे "आरएच कारक" के रूप में जाना जाता है। उदाहरण के लिए, यदि रक्त समूह A वाले व्यक्ति में Rh कारक मौजूद है, तो उसका रक्त समूह A धनात्मक होता है।

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

हाल के एक अध्ययन के अनुसार, ए, बी और एबी ब्लड ग्रुप वाले लोगों को दिल का दौरा पड़ने का खतरा अधिक होता है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (एएचए) के आर्टेरियोस्क्लेरोसिस, थ्रोम्बोसिस और वैस्कुलर बायोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि ए या बी ब्लड ग्रुप वाले लोगों में ओ ब्लड ग्रुप वाले लोगों की तुलना में दिल का दौरा पड़ने का जोखिम 8 प्रतिशत अधिक होता है। परिणाम एक विश्लेषण से प्राप्त हुआ जिसमें 4 लाख लोग शामिल थे।

यूरोपियन सोसाइटी ऑफ कार्डियोलॉजी द्वारा 2017 में किए गए एक अन्य अध्ययन में 13.6 लाख से अधिक लोगों का इसी तरह का विश्लेषण शामिल था। अध्ययन के परिणाम से पता चला कि गैर-O रक्त समूह वाले लोगों में O रक्त समूह वाले किसी व्यक्ति की तुलना में कोरोनरी और हृदय संबंधी घटनाओं का 9 प्रतिशत अधिक जोखिम था।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

अध्ययन के अनुसार, ब्लड ग्रुप बी वाले लोगों में ओ-टाइप ग्रुप की तुलना में दिल का दौरा पड़ने का खतरा 15 प्रतिशत अधिक था। हालांकि उच्चतम जोखिम रक्त समूह ए वाले लोगों के लिए निर्धारित किया गया था। इस रक्त समूह वाले लोगों में ओ-प्रकार की तुलना में दिल का दौरा और विफलता का 11 प्रतिशत अधिक जोखिम होता है।

O- को छोड़कर सभी रक्त समूहों में जोखिम बढ़ने का कारण रक्त के थक्कों के प्रति उनकी संवेदनशीलता में वृद्धि को बताया गया था। ब्लड क्लॉटिंग प्रोटीन, वॉन विलेब्रांड फैक्टर (VWF), नॉन-O ब्लड ग्रुप में अधिक पाया गया। प्रोटीन थ्रोम्बोटिक प्रभाव से जुड़ा हुआ है। यह पाया गया कि ए और बी ब्लड ग्रुप वाले लोगों में ओ-टाइप की तुलना में रक्त के थक्कों का खतरा 44 प्रतिशत अधिक था।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web