Sanjay Chauhan: नहीं रहे बॉलीवुड के जाने माने राइटर संजय चौहान, 62 साल की उम्र में निधन

संजय चौहान के निधन से न सिर्फ उनका परिवार बल्कि उनके फैंस और इंडस्ट्री के तमाम स्टार्स इस वक्त सदमे में हैं। 

 
Sanjay Chauhan: नहीं रहे बॉलीवुड के जाने माने राइटर संजय चौहान, 62 साल की उम्र में निधन

मुंबई। बॉलीवुड के जाने माने राइटर संजय चौहान का निधन हो गया है। ‘पान सिंह तोमर जैसी कई शानदार फिल्मों के राइटर संजय चौहान का निधन 62 साल की उम्र में गुरुवार यानी 12 जनवरी को मुंबई के एक अस्पताल में हुआ है। संजय बीते काफी सालों से लीवर की पुरानी बीमारी से पीड़ित थे।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

संजय चौहान के निधन से न सिर्फ उनका परिवार बल्कि उनके फैंस और इंडस्ट्री के तमाम स्टार्स इस वक्त सदमे में हैं। संजय अपने पीछे अपनी पत्नी सरिता और बेटी सारा चौहान हो छोड़ गए हैं।

यह खबर भी पढ़ें: Viral Video: जेब्रा बनकर जंगल में गेड़ी मार रहा था शख्स, वीडियो देख नहीं रोक पायेंगें हंसी

संजय को ‘पान सिंह तोमर के लिए ही नहीं बल्कि 'मैंने गांधी को नहीं मारा', 'धूप', 'साहेब बीवी गैंगस्टर' और 'आईएम कलाम' जैसी फिल्मों को लिए भी जाना जाता है। 'आई एम कलाम' के लिए संजय को बेस्ट स्टोरी के फिल्मफेयर अवॉर्ड से सम्मानित भी किया गया था। यही नहीं उन्होंने तिग्मांशु धूलिया के साथ ‘साहेब बीवी गैंगस्टर जैसी कई फिल्में भी लिखी हैं।

यह खबर भी पढ़ें: Intersting: लड़की ने किया 25000 KM का सफर, बॉयफ्रेंड से मिलने के बाद किया ये काम

संजय चौहान मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के रहने वाले थे। उनके पिता रेलवे में काम करते थे और मां एक स्कूल टीचर थीं। अपने करियर की शुरूआत संजय ने दिल्ली में एक पत्रकार के तौर पर की थी। इसके बाद उन्होंने साल 1990 के दशक में सोनी टेलीविजन के लिए क्राइम-बेस्ड टीवी सीरीज ‘भंवर लिखा था, जो काफी चर्चा में रहा था। इसके बाद ही वो मुंबई चले आए।

संजय को सुधीर मिश्रा की साल 2003 में आई फेमस फिल्म ‘हजारों ख्वाहिशें ऐसी के डायलॉग के लिए भी जाना है।

बता दें कि संजय चौहान का अंतिम संस्कार आज दोपहर 12.30 बजे मुंबई के ओशिवारा श्मशान घाट में किया गया।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web