नए कृषि कानूनों का व्यापारियों ने किया समर्थन, सांसद सत्यदेव पचौरी को सौंपा पत्र

 


कानपुर। गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में परेड की तैयारी कर रहे आंदोलित किसान नये कृषि कानूनों को रद्द कराने की मांग कर रहे हैं। वहीं नये कृषि कानूनों का कानपुर के व्यापारियों ने समर्थन किया है। व्यापारियों ने शहर सांसद सत्यदेव पचौरी को समर्थन पत्र सौंपा और मांग की गयी कि एक संशोधन मंडियों पर भी होना चाहिये, जिससे मंडी शुल्क समाप्त हो सके।

उत्तर प्रदेश खाद्य पदार्थ उद्योग व्यापार मंडल के तत्वाधान में ’प्रदेश अध्यक्ष ज्ञानेश मिश्र व प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष अजय बाजपेई के नेतृत्व में गल्ला व सब्ज़ी मंडी के अढतियों, व्यापारियों और मंडी के बाहर के कृषि उत्पादों से जुड़े व्यापारियों का कृषि बिलां का पूर्णतया समर्थन व स्वागत किया। इन कृषि बिलो में एक संशोधन मंडियो के अंदर भी मंडी शुल्क समाप्त करके मेंटिनेंस चार्ज या 0.25 प्रतिशत मंडी शुल्क लागू करने व अन्य सुझावों को लेकर सांसद सत्यदेव पचौरी के काकादेव स्थित आवास के बाहर हाथों में गुलाब के फूल लेकर सत्याग्रह प्रदर्शन किया गया। 

इस दौरान केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को संबोधित कृषि कानूनों के पूर्णतया समर्थन में व सुझावों के दो अलग-अलग ज्ञापन सांसद सत्यदेव पचौरी को सौंपे। सांसद सत्यदेव पचौरी ने दोनों ज्ञापन केंद्रीय कृषि मंत्री व मुख्यमंत्री को पहुंचाने का आश्वासन दिया। ज्ञानेश मिश्र ने कहा कि हम भारत सरकार द्वारा पूरे देश में पिछले वर्ष पांच जून को “कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन एवं सुविधा)“ सहित तीनां कृषि कानूनां के लागू होने का स्वागत व पूर्णतया समर्थन करते हैं।

मण्डल के प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष अजय बाजपेई ने कहा कि मंडियो में मंडी शुल्क समाप्त करके मेंटिनेंस चार्ज या 0.25 प्रतिशत करने के अलावा उत्तर प्रदेश में गल्ला मंडियो के अंदर व्यापार करने वाले मंडी के लाइसेंसी अढतियों व व्यापारियों द्वारा किसानों से कृषि उत्पादन मंडी समिति की देख रेख में पंजाब व हरियाणा की तर्ज पर न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद की स्वीकृति प्रदान की जाये। 

इससे किसानों को भी फायदा होगा और देश व उत्तर प्रदेश में मंडियो के अंदर खाद्यान्न व सब्जियों फल आदि को खराब होने से बचाने अर्थात इन्हें सुरक्षित रखने लिए मंडियो के अंदर भी आधुनिक गोदाम बनाये जाए जिससे अनाज खराब होने से बच सके। इस दौरान पंकज कुशवाहा, विनय शुक्ल, दुर्गेश गुप्ता, आनन्द शुक्ला, अजय गुप्ता, अनुराग बालूजा, रजत गुप्ता आदि मौजूद रहें।

यह खबर भी पढ़े: अभिनेत्री कौशानी मुखर्जी ने तृणमूल कांग्रेस का थामा दामन, "जय श्रीराम" के नारे पर जताई आपत्ति

From around the web