कुंभ आयोजन को लेकर राज्य सरकार नहीं है गंभीर : द्विवेदी

 


हरिद्वार। आम आदमी पार्टी के प्रदेश ज्वाइंट सेक्रेटरी मनोज द्विवेदी ने कहा कि हरिद्वार में होने वाले कुंभ को लेकर उत्तराखंड सरकार बिलकुल भी गंभीर नहीं है। कुंभ मेला का समय कम कर देने से व्यापारियों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। रविवार को द्विवेदी ने एक बयान में कहा कि सरकार ने कुंभ मेला की समय सीमा घटा दी है। चार माह चलने वाला कुंभ मात्र 48 दिन का कर दिया है। कोराना महामारी से त्रस्त व्यापारी वर्ग कुंभ से उम्मीदें लगाये बैठा है लेकिन उसकी आशाओं पर भी सरकार ने तुषारापात कर दिया है। 

उन्हाेंने कहा कि कुंभ शुरू होने में अब कम ही समय रह गया है लेकिन कई कार्य अभी आधे अधूरे हैं। सडक, अस्पताल, पुल, पार्किंग, सन्तों के लिये टेन्ट समेत कई व्यवस्थाएं अधूरी हैं। इनके प्रति सरकार जरा भी गंभीर नजर नहीं आ रही है। उन्होंने कहा कि एक जनहित याचिका पर हाई कोर्ट ने भी कुंभ के आयोजन अंतरराष्ट्रीय स्तर का करने को कहा है लेकिन राज्य सरकार केंद्र के दिशा निर्देशों का इंतजार कर रहा है।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को जनता को बताना चाहिए कि हाई कोर्ट के निर्देशों का अनुपालन सरकार कर रही है या नहीं।उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की जनता भाजपा को माफ करने वाली नहीं है। द्विवेदी ने कहा कि भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों ने हमेशा जनता को भ्रमित करने का काम किया है। लेकिन अब ऐसा नहीं होने दिया जाएगा। आप की पार्टी जनता को भ्रमित नहीं होनी देगी। 

प्रदेश उपाध्यक्ष ओपी मिश्रा ने कहा कि आम आदमी पार्टी शुरू से ही कह रही है कि कुंभ को लेकर सरकार की तैयारी नाकाफी है। संत समाज भी कुंभ कार्यों को लेकर सरकार के प्रति कई बार अपनी नाराजगी जाहिर कर चुका है। इतना ही नहीं हाई कोर्ट भी कुंभ कार्यों के प्रति नाराजगी जाहिर कर चुका है। मिश्रा ने बताया कि उस वक्त शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने मीडिया के माध्यम से सरकार का पक्ष रखते हुए कहा था कि संतों से विचार विमर्श हो गया है और उनकी नाराजगी समाप्त की जाएगी। लेकिन अभी भी कुंभ के अधूरे कामों को देखकर संतों की नाराजगी से ये स्पष्ट हो गया कि सरकार कुंभ कार्यों को लेकर गंभीर नहीं है। अभी तक सरकार ने कुंभ को लेकर नोटिफिकेशन भी जारी नहीं किया है।

यह खबर भी पढ़े: तिरंगा रैली में उमड़ा जनसैलाब, भारत माता और श्रीराम के जयकारों की गूंज

From around the web