नेता सुभाषचन्द्र बोस का "जय हिन्द" नारा बना भारत का राष्ट्रीय नारा

 


हमीरपुर। सरस्वती विद्यामंदिर इण्टरकालेज हमीरपुर में शनिवार को नेता सुभाष चन्द्र बोस की जयंती धूमधाम से मनाते हुये उन्हें नमन किया गया। विद्यालय के प्रधानाचार्य रमेश चन्द्र ने जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में कहा कि सुभाष चन्द्र बोस भारत के स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी तथा बड़े नेता थे। दूसरे विश्व युद्ध के दौरान अंग्रेजों के खिलाफ लडऩे के लिये उन्होंने जापान की मदद से आजाद हिन्द फौज का गठन किया था। उनके जरिये दिया गया जय हिन्द का नारा भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया। 

इस मौके पर विद्यालय के छात्र रत्नेश, शिवांगी, अंजली सिंह व मृत्युंजय सिंह ने कहा कि सुभाष चन्द्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा के कटक में हुआ था। यह बचपन से ही प्रतिभाशाली थे। इन्होंने आईसीएस की परीक्षा में चौथा स्थान हासिल किया था। पूरे देश की स्वतंत्रता के लिये ये प्रयासरत रहे है।

ऐसा माना जाता है कि 18 अगस्त 1945 को ताइवान में विमान दुघर्टना में उनकी मृत्यु हो गयी हालांकि इनकी मृत्यु के विषय में आज भी मतभेद है। आचार्य रमेश शुक्ला, अरुण मिश्र, जितेन्द्र सिंह ने कहा कि आजाद हिन्द सरकार के 75 साल पूरे होने पर इतिहास में पहली बार 2018 मेें भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लाल किले पर तिरंगा फहराया। 

30 जनवरी 2021 को नेताजी की 125वीं जयंती है। कार्यक्रम का संचालन आचार्य बलराम सिंह ने किया। कार्यक्रम में कार्यक्रम प्रमुख मुकेश राजपूत, आचार्य वेदप्रकाश शुक्ला सहित अन्य आचार्य और विद्यार्थी मौजूद रहे। जनपद के सुमेरपुर, मौदहा, राठ व कुरारा क्षेत्र में भी नेता सुभाष चन्द्र बोस की जयंती धूमधाम से मनायी गयी।

यह खबर भी पढ़े: भारतीय की ऐतिहासिक जीत से खुश आनंद महिंद्रा इन छह युवा खिलाड़ियों को तोहफे में देंगे SUV कार

यह खबर भी पढ़े: प्रधानमंत्री मोदी ने इशारे-इशारे में पाकिस्तान से लेकर चीन तक भारत की मजबूती का किया जिक्र

From around the web