दो सप्ताह लगातार आए खांसी तो न करें लापरवाही, हो सकती है ये बड़ी बीमारी

 


औरैया। वर्ष 2025 तक ‘टीबी हारेगा देश जीतेगा’ के उद्देश्य को सफल बनाने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे है। इसी के चलते 25 जनवरी तक डोर-टू-डोर जाकर टीबी एसीएफ कैम्पेन चल रहा है। टीबी ऐसी बीमारी होती है जो किसी को भी हो सकती है। लेकिन सही इलाज से यह पूरी तरह ठीक हो सकती है। 

जिला क्षयरोग अधिकारी डॉ. एपी राय बताते है, कि क्षयरोग या ट्यूबरक्लोसिस (टीबी) एक गंभीर बीमारी है जो कि लम्बे समय से जन सामान्य की स्वास्थ्य समस्या बनी हुई है। ये एक संक्रांमक रोग है जो मरीजों के खांसने और थूकने से फैलता है। क्षय रोगियों की जल्द पहचान करके उनका इलाज शुरू करना, इस बीमारी को रोकने में मद्द करता है। लेकिन अभी भी हमारे समाज में टीबी को लेकर स्वीकारता नहीं हैं। लोग जिस तरह यह स्वीकार कर लेते हैं कि वह मधुमेह या उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं, उस तरह वह यह स्वीकार नहीं कर पाते कि वो क्षयरोग से पीड़ित हैं। 

विश्व की 17.7 प्रतिशत जनसंख्या में भारतीय हैं, जबकि विश्व की 27 प्रतिशत टीबी रोगी भी भारत में पाये जाते हैं। विश्व स्वस्थ्य संगठन द्वारा प्रकाशित ग्लोबल ट्यूबरक्यूलिसिस रिपोर्ट 2018 के अनुसार वर्ष 2016 के मुकाबले वर्ष 2017 में टीबी के मरीजों में 1.7 प्रतिशत की गिरावट आई है। वही टीबी से होने वाली मौतों में 3 प्रतिशत तक की गिरावट आई। हालांकि यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि नहीं है, क्योंकि यदि भारत को 2025 तक टीबी मुक्त बनाना है तो और प्रयास करने की जरूरत है।

डॉ. राय ने बताया कि टीबी का इलाज संभव हैं और ये छूने या हाथ मिलाने से नहीं फैलती हैं। यदि किसी को टीबी हो जाता हैं तो सबसे पहले वो अपनी दवाई समय से ले और जितना डॉक्टर ने बोला हैं उतने समय का कोर्स पूरा करे। साथ ही कुछ सावधानियां जैसे अपने खाने पीने का ध्यान दे, जब भी खासे मुंह पर कपड़ा रखकर खासे। कोर्स पूरा होने के बाद अपने बलगम की जांच जरूर कराये। जिससे पता चल सके कि वो सही हुआ हैं या नहीं।

टीबी के मुख्य लक्षण
दो सप्ताह या उससे अधिक समय से लगातार खांसी आना, खांसी के साथ बलगम आना, बुखार, वजन का घटना, भूख कम लगना, सीने में दर्द, बलगम के साथ खून आना, इसी के साथ मस्तिष्क की टीबी में सिरदर्द, बुखार, खुमारी, गर्दन मे जकड़न होना व रीढ़ की टीबी में पीठ में दर्द, बुखार, तथा रीढ़ में सूजन आ जाती हैं। 

यह खबर भी पढ़े: बोनी कपूर की बड़ी बेटी जाह्नवी के डेब्यू के बाद छोटी बेटी खुशी कपूर भी करेगी फिल्‍मों में एंट्री

यह खबर भी पढ़े: उज्वला होम में सेक्स रैकेट, पुलिस पर बलात्कारियों को संरक्षण देने का गंभीर आरोप, पीडिताओं ने सुनाई आपबीती

From around the web