प्रदेश प्रभारी ने किया बड़ा दावा, कहा- आज ही विधानसभा चुनाव हो जाएं तो तीन-चौथाई बहुमत के साथ सरकार बना सकती है भाजपा

 


जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के राजस्थान प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने दावा किया है कि प्रदेश में यदि आज विधानसभा चुनाव हो जाएं तो भाजपा तीन-चौथाई बहुमत के साथ सरकार बना सकती है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में आगामी चुनावों में सीएम का चेहरा होगा या नहीं, यह पार्टी का पार्लियामेंट्री बोर्ड तय करेगा। पार्टी ने उत्तराखंड, हरियाणा व महाराष्ट्र में किसी के चेहरे को सामने रखकर चुनाव नहीं लड़ा है। उन्होंने कहा कि पार्टी में किसी बात को लेकर मतभेद हो सकता है, लेकिन भाजपा में मन भेद नहीं है।

प्रदेश प्रभारी सिंह रविवार को प्रदेश भाजपा मुख्यालय में आयोजित होने वाली कोर ग्रुप बैठक से पहले पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने राज्य की गहलोत सरकार को हर मोर्चे पर फेल बताने के साथ ही भाजपा में एकजुटता की बात कही। प्रदेश प्रभारी ने कहा कि गहलोत सरकार प्रदेश के लोगों का विश्वास खो चुकी हैं। इसका परिणाम जिला परिषद चुनाव के नतीजों में सामने आ चुका है। 21 जिला परिषदों में से 14 पर भाजपा ने जीत हासिल कर बता दिया है कि यदि आज चुनाव हो जाएं तो भाजपा तीन-चौथाई जीत के साथ सरकार बना सकती है।

सिंह ने कहा कि गहलोत सरकार के दो वर्ष के कार्यकाल के दौरान किसान और बेरोजगार युवा खासतौर से परेशान है। कांग्रेस जहां किसान आंदोलन का समर्थन कर रही है वहीं राजस्थान में उन्हीं की कांग्रेस सरकार में किसानों का बुरा हाल हो रहा है। बेरोजगार युवा सरकार नौकरियों और बेरोजगारी भत्ते के लिए दर-दर भटकने को मजबूर है। उन्होंने कहा कि गहलोत सरकार ने किसानों को बिजली कनेक्शन पर पूर्व में मिल रही सब्सिडी ख़त्म की है जबकि किसानों के कर्जे आज तक माफ नहीं हुए हैं। किसान कर्जमाफी के लिए गठित कमेटी की मार्च से लेकर अभी तक बैठक तक नहीं हुई है। वहीं सरकार लगातार बिजली कीमतें बढ़ा रही है।

प्रदेश भाजपा में मुख्यमंत्री पद के कई संभावित चेहरे होने के सवाल पर सिंह ने कहा कि इस बारे में मीडिया और सोशल मीडिया में अटकलें लगना स्वाभाविक है। चुनाव नजदीक आते-आते मुख्यमंत्री के चेहरे के लिए कई नाम सामने आएंगे, लेकिन पार्टी का पार्लियामेंटरी बोर्ड ही इस बारे में अंतिम निर्णय लेता है। जबकि चुनाव होने के बाद विधायक दल अपने नेता को चुनता है। प्रदेश प्रभारी ने पार्टी के अंदरखाने गुटबाजी की अटकलों को नकारते हुए दोहराया कि पार्टी नेताओं के बीच अक्सर मतभेद होते हैं लेकिन मनभेद नहीं रहते हैं। उन्होंने कहा कि मतभेद होना लोकतंत्र में ज़रूरी है। पार्टी में भी मतभेद होते हैं लेकिन सर्वसम्मति से निर्णय लिए जाते हैं। उन्होंने कहा कि 21 में 14 जिला परिषदों में जीत से सभी नेताओं की एकजुटता का ही परिणाम है।

प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह के निशाने पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी भी रही। उन्होंने कांग्रेस को कन्फ्यूज्ड और यू-टर्न लेने वाली पार्टी करार दिया। सिंह ने कहा कि चाहे लॉकडाउन हो या कोरोना वैक्सीन की बात हो, हर समय कांग्रेस के नेता राहुल गांधी और उनकी पार्टी कन्फ्यूज़ रही और बार-बार यू-टर्न लेती रही है। उन्होंने कहा कि लॉक डाउन के दौरान राहुल गांधी के बयान लगातार विरोधाभासी रहे तो वहीं कोरोना वैक्सीन निर्माण पर भी कांग्रेस नेताओं ने प्रधानमंत्री और देश के वैज्ञानिकों को अपमानित किया। उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस का नेतृत्व ही इतना कन्फ्यूज़ है तो मुख्यमंत्री या प्रदेश अध्यक्ष तो कन्यूज़ रहेंगे ही। उन्होंने कृषि कानूनों को लेकर हो रहे चौतरफा विरोध पर कहा कि किसान आन्दोलन में कांग्रेस पार्टी सीधे तौर पर शामिल है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी अपना हित साधने के लिए किसानों के हित के साथ खिलवाड़ कर रही है। कांग्रेस के नेता किसानों और आमजन को भ्रमित करने का काम कर रहे हैं। जबकि कांग्रेस पार्टी के ही घोषणा पत्र में सत्ता में आने पर एपीएमसी एक्ट ख़त्म करने और फ्री मार्केट छोडऩे का वादा किया गया था। लेकिन अब जब कानूनों में ऐसे प्रावधानों को शामिल किया गया है तब वे कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं।

यह खबर भी पढ़े: Live Updates/ गणतंत्र दिवस तक सड़क पर नहीं चलेंगे ट्रैक्टर, पेट्रोल पम्पों पर चिपकाया गया ऐसा नोटिस

 

From around the web