राजस्थान में नहीं मिल रही ठंड से राहत, सर्द हवा छुड़ा रही कंपकंपी

 


जयपुर। पश्चिमी विक्षोभ और हवाओं के बदले रुख से राजस्थान के मौसम का मिजाज बदल गया है। इस कारण प्रदेशवासियों को पारे से ज्यादा राहत नहीं मिल रही है। बुधवार को 10 से ज्यादा जगहों पर रात का पारा 10 डिग्री सेल्सियस के नीचे दर्ज किया गया। हालांकि, दिन का तापमान हालांकि अब दो से तीन डिग्री अधिक बढ़ा हुआ दर्ज किया जा रहा है, लेकिन सर्द हवाओं का दौर सुबह, दिन और शाम को लगातार हावी है।

बीते दो दिनों से जयपुर सहित कुछ अन्य शहरों में दिन में तेज धूप निकल रही है। इससे दिन और रात के तापमान में थोड़ी बढ़ोतरी हुई है। दूसरी तरफ कुछ ऐसे भी शहर हैं, जहां तापमान में कमी आई है। वहां सुबह-शाम सर्दी का प्रभाव बढ़ा है। हिल स्टेशन माउंट आबू में बीती रात पारा 3.4 डिग्री नीचे गिरकर जमाव बिंदु पर पहुंच गया। राज्य के ज्यादातर शहरों में सर्दी की स्थिति ये है कि सुबह 9 बजे तेज धूप निकलने के बाद लोगों को राहत मिलती है, जो देर शाम 5 बजे तक रहती है। इस बीच दोपहर में एक समय ऐसा आता है जब सूरज की तेज तपिश में भी गर्म कपड़े कम सुहाते हैं। लेकिन जैसे ही सूरज ढल जाता है, सर्दी दोबारा जोर पकडऩे लगती है।

पर्वतीय पर्यटन स्थल माउंट आबू में करीब 7 दिन के लंबे अंतराल के बाद पारा जमाव बिंदु पर आया है। माउंट आबू के अलावा अजमेर, भीलवाड़ा, बूंदी, चूरू और उदयपुर में भी पारे में 1-2 डिग्री तक की गिरावट हुई है। वहीं जयपुर, जैसलमेर, भरतपुर, बीकानेर, बाड़मेर सहित अन्य स्थानों पर रात के पारे में बढ़ोतरी हुई है।

बीती रात अजमेर में 7.5, भीलवाड़ा में 5, वनस्थली (टोंक) में 8.1, अलवर में 8.2, जयपुर में 11, पिलानी (झुंझुनूं) में 4.5, सीकर में 6, कोटा में 11, सवाई माधोपुर में 9, बूंदी में 10.2, चित्तौडग़ढ़ में 6.3, उदयपुर में 8, बाड़मेर में 11.3, पाली में 8.4, जैसलमेर में 8.4, जोधपुर में 8.2, बीकानेर में 7.8, चूरू में 3.6, श्रीगंगानगर में 6.2 तथा भरतपुर में 8.1 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान दर्ज किया गया।

प्रदेश में राजधानी जयपुर समेत गंगानगर, सीकर, पिलानी, चूरू, भीलवाड़ा , माउंटआबू, डबोक और जोबनेर में सबसे ज्यादा सर्दी का असर बरकरार है। कई जगहों पर घना कोहरा भी हावी हो रहा है। दृश्यता कम होने की वजह से वाहनचालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सर्दी से बचने के लिए जगह-जगह लोग अलाव जलाकर हाथ ताप रहे हैं। मौसम विभाग का कहना है कि 22-23 जनवरी से एक पश्चिमी विक्षोभ उत्तरी भारत में सक्रिय होगा, जिसका मामूली प्रभाव प्रदेश में भी देखने को मिलेगा। हवा थोड़ी तेज होगी और आसमान में हल्के बादल भी छाए रह सकते हैं। हालांकि विक्षोभ से बारिश की संभावना बिल्कुल नहीं है। इस सिस्टम के हटने के बाद 24 जनवरी बाद से प्रदेश में एक बार फिर तापमान में गिरावट आएगी और सर्दी का प्रभाव बढ़ेगा।

यह खबर भी पढ़े: वर्ष 2020 में CRPF ने जम्मू-कश्मीर में कई अभियान चलाकर करीब 215 आतंकियों को किया ढेर

From around the web