प्रदेश में 18 जनवरी से खुलेगें अल्पसंख्यक राजकीय व अनुदानित बालक एवं बालिका छात्रावास, रखना होगा हैल्थ प्रोटोकॉल का ध्यान

 


जयपुर। राज्य सरकार द्वारा विद्यालयों में शैक्षणिक गतिविधियाँ कोचिंग संस्थाओं में 18 जनवरी 2021 से शिक्षण कार्य प्रारम्भ करने के लिए जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार अल्पसंख्यक मामलात एवं वक्फ विभाग मंत्री, शाले मोहम्मद ने अल्पसंख्यक राजकीय व अनुदानित बालक एवं बालिका छात्रावासों में पूरे हैल्थ प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए प्रारम्भ करने एवं संचालन की आवश्यक तैयारियां करने के निर्देश दिये। 

शाले मोहम्मद ने शुक्रवार को विभागीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाईन के अनुसार अल्पसंख्यक बालक बालिका छात्रावास संचालित किये जायेंगे। राज्य सरकार द्वारा जारी निर्देशों की अनुपालना में उन्होंने मदरसों में भी कक्षाएं संचालित करने के निर्देश दिये।

उन्होेंने प्रदेश में राजस्थान मदरसा बोर्ड द्वारा पंजीकृत 3 हजार 260 मदरसों को ऑनलाइन करने के लिए ‘‘दरस सॉफ्टेवयर‘‘ को अपडेट करने के संबंध में उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिये ताकि मदरसों से संबंधित समस्त सूचना ऑनलाइन उपलब्ध करवायी जा सके।

उल्लेखनीय है कि शाले मोहम्मद ने हज कमेटी ऑफ इण्डिया द्वारा जयपुर में पूर्व में संचालित इम्बारकेशन पाइण्ट को यथावत रखने के लिए केन्द्र सरकार को पत्र भी लिखा उन्होंने बताया कि प्रदेश के निवासी दूर दराज के क्षेत्र से हज यात्रा पर प्रस्थान एवं आगमन करते है। 

उन्होंने बताया कि जयपुर प्रदेश की राजधानी है तथा राजस्थान के सभी जिलें रेल व सड़क मार्ग से सुगम रूप से जयपुर से जुडे है अतः हज यात्रियों के प्रस्थान व आगमन व उनके परिवारजनों के लिए यहां निवास व यात्रा करना सुगम है। उन्होंने इम्बारकेशन पाइण्ट को पुनः बहाल करने की अपील की।  उन्होनें बैठक में विभागीय योजनाओं की समीक्षा की तथा उपस्थित विभागीय अधिकारियों को योजनाओं से संबंधित कार्यों के त्वरित निस्तारण के निर्देश प्रदान किये।

यह खबर भी पढ़े: प्रदेशभर में कल से शुरू होगा कोरोना वैक्सीनेशन का आगाज, साईट सैशन पर पहुंची वैक्सीन डोज

 

From around the web