प्रदेशभर में कल से होगा कोरोना वैक्सीनेशन का आगाज, साईट सैशन पर पहुंची वैक्सीन डोज

 


जयपुर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया है कि देशभर में 16 जनवरी से कोविड-19 वैक्सीनेशन का शुभारंभ किया जा रहा है। प्रदेश में वैक्सीनेशन को लेकर तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। उन्होंने बताया कि राज्य में 161 सत्र स्थलों के अतिरिक्त जयपुर जिले के 6 सत्र स्थलों पर होने जा रहे कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए वैक्सीन की खेप अधिकतर सत्र स्थलों पर पहुंच चुकी है। 

5,63,500 वैक्सीन डोज
चिकित्सा मंत्री ने बताया कि 13 जनवरी तक राजस्थान को दो कंपनियों के करीब  5 लाख 63 हजार वैक्सीन डोज  प्राप्त हुए हैं। जिसमें स्टेट वैक्सीन स्टोर, जयपुर को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोवीसिल्ड के 4,43,000 और भारत बॉयोटेक की को-वैक्सीन के 20,000 डोज मिले है। वहीं स्टेट वैक्सीन स्टोर, उदयपुर को 1,00,500 डोज उपलब्ध कराएं गए है।

वैक्सीन का वितरण
डॉ शर्मा ने बताया कि राज्य में कोरोना वैक्सीनेशन का वितरण दो स्थानों से किया गया है। उदयपुर संभाग के जिलों में वैक्सीन का वितरण स्टेट वैक्सीन स्टोर उदयपुर से किया गया है। जबकि राज्य के अन्य संभागों के जिलों में वैक्सीन का वितरण स्टेट वैक्सीन स्टोर, जयपुर से किया गया है। वैक्सीन वितरण कार्य 14 जनवरी से किया गया है। वितरण के लिए सभी जिलों से वैक्सीन वैन, दो चालक व आरसीएचओ अथव उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी, स्वास्थ्य अधिकारी और पुलिसकर्मी को सबंधित स्टेट वैक्सीन स्टोर बुलाया गया था। 

एक ही कंपनी की खुराक दी जाएगी
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि 16 जनवरी से प्रारंभ होने वाली वैक्सीनेशन प्रक्रिया में लाभार्थी को 0.5 एमएल की पहली खुराक दी जाएगी। पहली खुराक के 28 दिन बाद दूसरी खुराक भी उसी कंपनी की 0.5 एमएल दी जाएगी। उन्होंने बताया कि वैक्सीनेशन कोविड-19 वैक्सीनेशन में 2 साईट इन्टरएक्टिव होंगी। ये इंटरएक्टिव सैशन साईट जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल व अजमेर के जेएलएन मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में होंगी। 

सप्ताह में केवल 4 दिन होगा वैक्सीनेशन
डॉ शर्मा ने बताया कि कोरोना वैक्सीनेशन के दौरान अन्य स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित ना हों इसके लिए सप्ताह में केवल 4 दिन वैक्सीनेशन किया जाएगा। जिसमें गुरुवार, रविवार व राजकीय अवकाश के दिन वैक्सीनेशन नहीं किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 31 जनवरी तक 161 सत्र स्थल पर प्रतिदिन के अनुसार टीकाकरण किया जाएगा। 

स्थलों के चयन में सावधानी
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री ने सभी सत्र स्थलों के चयन में यह ध्यान रखा गया है कि वहां एईएफआई केसों के उपचार और जरुरत के समय उन्हें रैफर करने की पूर्ण व्यवस्था उपलब्ध हो। इसके अतिरिक्त अन्य सभी व्यवस्थाओं के लिए सभी जिला कलक्टर्स को निर्देशित किया गया है कि वे सबंधित सीएमएचओ व आरसीएचओ के साथ वीसी व अन्य जरिए से संपर्क में रहे। उन्होंने बताया कि कोविड वैक्सीन का भंडारण 2 से 8 डिग्री के मध्य किया जाएगा। राज्य में कोविड वैक्सीन स्टोर के 3 राज्य स्तरीय, 7 संभाग स्तरीय, 34 जिला स्तरीय वैक्सीन स्टोर है। वहीं सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर 2444 कोल्ड चौन पाईन्टस भी कार्यशील है। प्रत्येक जिले में एक वैकसीन वैन भी उपलब्ध कराई गई है। 

छः लाख से अधिक लाभार्थियों का डेटा अपलोड
डॉ. शर्मा ने बताया कि कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए कोविन सॉफ्टवेयर में राज्य से छः लाख से अधिक लाभार्थियों का डेटा 14 जनवरी 2020 की शाम तक अपलोड किया जा चुका है। जिसमें सरकारी, निजी व केन्द्रीय मंत्रालयों के हेल्थ वर्कर्स सम्मलित है। इसमें 4,87,381 राज्य के सरकारी व निजी संस्थानों के लाभार्थी है वहीं 6758 केन्द्रीय मंत्रालयों के लाभार्थी है। जबकि 1,01,761 फ्रंटलाईन वर्कर्स का भी डेटा अब तक अपलोड हो चुका है। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि प्रथम चरण में 3345 सरकारी चिकित्सा संस्थानों एवं 2969 निजी क्षेत्र के संस्थानों को वैक्सीनेशन के लिए चिन्हित किया गया है। इनमें से 3736 सत्र स्थल की जानकारी को कोविन सॉफ्टवेयर में अपलोड किया गया है। 

यह खबर भी पढ़े: भारी तनातनी के बीच अमेरिका ने चीन को दिया बड़ा झटका, अब अमेरिका में व्यापार नहीं कर पाएंगी ये कंपनियां

 

From around the web