भिवाड़ी पुलिस ने 18 दिन तक नेपाल बॉर्डर व बिहार में किया सर्च, तब पकड़े गए लाखों की मोबाइल लूट के तीन आरोपित

 


अलवर। भिवाड़ी पुलिस ने 18 दिन तक लगातार नेपाल बॉर्डर व बिहार राज्य में सर्च ऑपरेशन चलाकर अंतरराष्ट्रीय नकबजनी की चेलवा- बेलवा घोड़ासहन गैंग के तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपितों के घर से करीब 47 लाख रुपये के मोबाइल भी बरामद किए हैं। जिनमें 31 आईफोन, 1 आईपैड, एक एप्पल वॉच, 12 सैमसंग, 2 रेडमी, 2 वनप्लस, 3 वीवो कंपनी के मोबाइल है। 

भिवाड़ी पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी ने बताया कि 28 दिसंबर को अलवर बायपास पर आशियाना प्लाजा स्थित आईफोन मोबाइल जंक्शन के मालिक वरुण कुमार ने सूचना दी कि बीती रात्रि अज्ञात चोर शटर तोड़कर उनकी दुकान से करीब 60 मोबाइल चोरी कर ले गए। चोरी गए मोबाइल की कीमत करीब 50 लाख है। चोरी के बाद चोर सभी मोबाइलों के पैकिंग के डिब्बे शोरूम में ही फेंक गए। जिस पर रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस ने आरोपितों की तलाश शुरू की। पुलिस दो टीमों में काम करती रही। दिल्ली, बिहार व नेपाल बॉर्डर के रास्तों पर पुलिस लगातार 18 दिन तक निगरानी करती रही। जिसमें नेपाल बॉर्डर से घटना में शामिल तीन मुलजिम को स्थानीय लोगों से प्राप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने दस्तयाब कर लिया। पुलिस पूछताछ में आरोपितों ने घटना को चेलवा बेलवा गैंग द्वारा अंजाम देना बताया। 

जिसपर पुलिस ने बिहार निवासी दीपक, मुस्तफा दीवान और महफूज आलम को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि मोबाइल गैंग के मुखिया चेलवा है। जिसके कब्जे में ही चोरी के मोबाइल है। पुलिस ने आरोपियों की तलाश में बिहार पुलिस की सहायता से दबिश दी लेकिन आरोपित नही मिले। घर की तलाशी में पुलिस को चोरी के मोबाइल बरामद हो गए। 

 चेलवा है गैंग का सरगना, चेलवा और बेलवा दोनों है भाई 
 पुलिस पूछताछ में सामने आया कि समीर उर्फ सनम उर्फ चेलवा और सलमान उर्फ बेलवा दोनों भाई हैं। चेलवा गैंग का सरगना है। कोसी अख्तर, इरफान, पप्पू गोसाई, पिंटू पंडित यह गैंग में शामिल है। ये सभी 6 आरोपित फरार हैं। जोकि गुप्त रास्तों से पड़ोसी देश नेपाल फरार हो गए है। जिनकी पुलिस तलाश कर रही है।

यह खबर भी पढ़े: प्रदेश में सोमवार से खुलेंगे स्‍कूल, सरकारी गाइड लाइन की पालना निश्चित

From around the web