अन्नदाताओं का दिल्ली कूच: किसानों के धरने से सिंधु व टीकरी बार्डर बंद, 12 हजार किसानों पर केस दर्ज

 


चंडीगढ़। कृषि कानूनों के विरोध में अन्नदाता पिछले 24 घंटे से दिल्ली के सिंधु व टीकरी बार्डर पर डटे हुए हैं। किसानों के धरने से दोनों बार्डरों को बंद कर दिया गया है। किसानों की हर गतिविधि पर ड्रोन से नजर रखी जा रही है। 

हरियाणा-पंजाब सीमा को लांघने के आरोप में सिरसा में 12 हजार किसानों पर केस दर्ज किया गया है, वहीं करनाल में भारतीय किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी सहित दर्जनों किसानों पर धारा-144 तोड़ने के साथ सरकारी काम में बाधा डालने और बेरिकेडिंग तोड़ने के आरोप में केस दर्ज किया गया है। साथ ही दिल्ली कूच के दौरान किसानों पर पानी की बौछारों व आंसू गैस का इस्तेमाल करने को लेकर सियासत थम नहीं रही है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दावा किया है कि किसानों के मुद्दे पर उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र को कई बार फोन मिलाया, लेकिन वे बात करने के लिए लाइन पर नहीं आए।

शनिवार को दिन भर कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का दिल्ली कूच जारी रहा तो दिल्ली में पड़ाव डाल चुके किसान सिंधु और टीकरी बार्डर पर डटे रहे। किसानों के धरने से राष्ट्रीय राजमार्ग पर 10 किलोमीटर लंबा जाम लग गया। एतियात के तौर पर सोनीपत जिला प्रशासन ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित पेट्रोल पंप व शराब के ठेकों को बंद कर दिया। वहीं राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा टीकरी बार्डर पर किसानों को समर्थन देने पहुंचे। पंजाब के मशहूर गायक बब्बू मान भी किसानों के समर्थन में सिंधु बार्डर पर पहुंचे। उन्होंने किसानों को एकजुट होने का आह्वान किया।

किसानों पर पानी की बौछारों व आंसू गैस के इस्तेमाल को लेकर कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने हरियाणा की भाजपा सरकार को कटघरे में खड़े करते हुए उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला पर निशाना साधा।

किसान आंदोलन पर इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के छोटे भाई दिग्विजय चौटाला ने केंद्र सरकार से किसानों से बातचीत करने का आग्रह किया है। राज्यसंभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि देश का किसान लोकतांत्रित तरीके से देश की सरकार के दरवाजे पर पहुंचा है। सरकार को तुरंत किसानों से बातचीत करके उनकी समस्याओं का हल करना चाहिए।

कुरुक्षेत्र में भी भाकियू प्रदेशाध्यक्ष चढूनी के खिलाफ मामला दर्ज
कुरुक्षेत्र पुलिस ने किसानों के दिल्ली कूच के मामले में संज्ञान लेते हुए दो अलग-अलग मामले दर्ज किए हैं। शाहाबाद में 13 धाराओं व 3 एक्ट के अंतर्गत भाकियू के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी, जसबीर सिंह मामूमाजरा, राकेश बैंस, जसबीर सिंह कलसानी, बलकार सिंह रामनगर के खिलाफ मामला दर्ज किया है। वहीं दूसरी ओर पंजाब के अनेक किसान यूनियनों व संगठनों जो त्यौड़ा थेह का नाका तोड़कर दिल्ली गए थे के मामले में भी पुलिस ने सैंकड़ों अज्ञात किसानों के खिलाफ 13 धाराओं व 3 एक्ट के अंतर्गत मामला दर्ज किया है।

हाईवे पर किसानों ने जलाया चूल्हा:
रोहतक में दिल्ली के घेराव के लिए जा रहे किसानों ने हाईवे पर जगह-जगह चूल्हे जलाकर रोटी बनाई। अधिकतर किसान भोजन का सामान साथ लिए हुए थे और उनके साथ महिला व बच्चे भी दिल्ली कूच के लिए जा रहे थे। एकाध स्थान पर तो ग्रामीणों ने दिल्ली कूच के लिए जा रहे किसानों की मदद की। ट्रैक्टर ट्रालियों में खाने के सामान की पूरी व्यवस्था की गई थी। किसानों को कोई दिक्कत न हो, इसलिए उन्होंने पहले ही ट्रैक्टर ट्रालियों में तिरपाल लगा रखा था। रोहतक जिले व सांपला कस्बे के आसपास ग्रामीणों ने सोने के लिए किसानों की मदद की।

यह खबर भी पढ़े: VIDEO: पाकिस्तान में कट्टरपंथियों की भीड़ ने हिंदुओं पर किया हमला, मकानों में की तोड़फोड़

From around the web