लालू की जमानत याचिका पर टली सुनवाई, JDU ने कहा- वे राजनीति के कैंसर

 


पटना। चारा घोटाला के चार मामलों में सजा सजा काट रहे राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की जमानत याचिका पर शुक्रवार को रांची हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। इसके साथ ही यह सुनवाई 11 दिसंबर तक के लिए टल गई है। HC की तरफ से सरकार को लालू यादव की सजा का रिकॉर्ड वेरिफाई करने के लिए कहा गया है।

हालांकि CBI ने लालू की जमानत का विरोध किया। CBI का कहना था कि अभी लालू की आधी सजा पूरी नहीं हुई है। वहीं, लालू के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि राजद सुप्रीमो ने आधी सजा काट ली है। 

वही, जनता दल यूनाइटेड ने लालू को राजनीति का कैंसर व कोढ़ बताते हुए उनकी जमानत का विरोध किया है। जेडीयू विधान पार्षद व पूर्व मंत्री नीरज कुमार ने अपने ट्वीट में जमानत का विरोध करते हुए लिखा है कि लालू प्रसाद यादव पर एक और मुकदमा दर्ज हो गया है। 

ट्वीट में भारतीय जनता पार्टी के विधायक को फोन कर राज्य सरकार को अस्थिर करने की कोशिश तथा बार-बार जेल मैनुअल के उल्लंघन पर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से हस्तक्षेप की मांग की गई है। उन्‍होंने लालू प्रसाद यादव को आदतन अपराधी भी कहा है। 

जेडीयू नेता संजय सिंह ने लालू प्रसाद यादव के जेल मैन्युअल के उल्लंघन का हवाला देते हुए कहा है कि उन्‍हें जमानत नहीं मिलनी चाहिए। उन्‍होंने लालू को राजनीति का कैंसर और कोढ़ भी बताया है।

बता दें कि लालू प्रसाद यादव ने झारखंड के दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामले में जमानत याचिका दाखिल की है। लालू को शेष तीन मामलों में जमानत मिल चुकी है। यदि हाईकोर्ट से उन्‍हें दुमका कोषागार के मामले में जमानत मिल जाती है तो वे जेल से बाहर आ जाएंगे। 

ऐसे में बिहार की राजनीति पर बड़ा असर पड़ना तय है। लालू की जमानत याचिका पर बिहार की सियासत गर्म हो गई है। जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने लालू को राजनीति का कैंसर व कोढ़ बताते हुए उनकी जमानत का विरोध किया है।

यह खबर भी पढ़े: NH8 पर अचरोल के पास भयंकर हादसा, जिंदा जल गए बस में सवार लोग

 

From around the web