कृषि कानूनों पर जयराम रमेश का तंज, बोले- लोगों पर बातें थोपना ही ‘न्यू इंडिया’

 
कृषि कानूनों पर जयराम रमेश का तंज, बोले- लोगों पर बातें थोपना ही ‘न्यू इंडिया’


नई दिल्ली। कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन के समर्थन में उतरी कांग्रेस लगातार केंद्र सरकार को घेरने में लगी है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने इस कानून को लेकर सरकार की मंशा पर सवाल उठाया है। उन्होंने पूछा कि क्या बिना चर्चा के लोगों पर कुछ भी थोपना ही ‘न्यू इंडिया’ है।

राज्यसभा सदस्य जयराम रमेश ने कृषि विधेयकों और उनके पारित होने की क्रोनोलॉजी समझाते हुए कहा कि सरकार सिर्फ अपने आदेशों को थोपने का काम करती है, यह जनतंत्र का उदाहरण नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि पहले तो लॉकडाउन के दौरान कृषि विधेयक पारित किया जाता है। कृषि विधेयकों की जांच के लिए संसदीय समिति को अनुमति नहीं दी जाती है। यहां तक कि राज्यसभा सदस्यों को विरोध करने के बाद वोट देने तक की अनुमति नहीं है। इसके बाद कानूनों का समर्थन करने वाले लोगों को किसानों की समस्या के समाधान के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गई समिति में स्थान दिया जाता है। उन्होंने पूछा कि क्या यही ‘न्यू इंडिया’ है।

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई समिति की निष्पक्षता पर सवालिया निशान लगाया है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने समिति के जो 4 सदस्य बनाए हैं वे तो पहले ही मोदी सरकार के कानूनों के समर्थक हैं। उन्होंने पूछा कि ऐसी समिति के सदस्य क्या न्याय करेंगे? उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर तंज कसा है, ‘इतने अहंकारी मत बनिए.. किसानों की सुनिए. नहीं तो देश आपकी बात सुनना बंद कर देगा।’

यह खबर भी पढ़े: मनी लॉन्ड्रिंग : तृणमूल कांग्रेस के पूर्व सांसद केडी सिंह को ED ने दिल्ली से किया गिरफ्तार

यह खबर भी पढ़े: कोविशील्ड वैक्सीन लेकर अगरतला हवाई अड्डे पर पहुंची पहली फ्लाइट

From around the web