संसद में मिलने वाली भोजन की रियायती थाली से हटी सब्सिडी

 


नई दिल्ली। संसद का आगामी बजट सत्र शुरू होने से पहले सभी सांसदों को कोविड-19 की जांच करानी होगी। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा है कि संसद सत्र शुरू होने से पहले सभी सांसदों से कोविड-19 जांच कराने का अनुरोध किया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 29 जनवरी से शुरू होने वाले संसद सत्र के दौरान राज्यसभा की कार्यवाही सुबह 9 बजे से दोपहर 2 बजे तक होगी। लोकसभा की कार्यवाही शाम 4 से रात 8 बजे तक होगी। बिरला ने मंगलवार को संसद के आगामी बजट सत्र की तैयारियों को लेकर लोकसभा सचिवालय और दूसरी एजेंसियों के शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक के बाद उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि संसद सत्र के दौरान प्रश्नकाल के लिए पूर्व निर्धारित एक घंटे के समय की अनुमति रहेगी।

उन्होंने कहा कि सत्र के दौरान सरकार द्वारा जारी कोविड-19 दिशानिर्देशों का पालन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सांसदों के आवास के नजदीक भी उनकी आरटी-पीसीआर जांच किए जाने के प्रबंध किए गए हैं। इसके साथ ही संसद भवन परिसर के भीतर 27-28 जनवरी को आरटीपीसीआर परीक्षण होगा, जिसमें सांसदों के परिजन और उनके स्टाफ भी जांच करवा सकेंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्यों द्वारा टीकाकरण अभियान नीति को अंतिम रूप दिया गया है, ये सांसदों पर भी लागू होगा। उल्लेखनीय है कि संसद का बजट सत्र 29 जनवरी से शुरू होगा और यह दो हिस्सों में 8 अप्रैल तक चलेगा। बजट सत्र का पहला चरण 29 जनवरी से शुरू होगा और 15 फरवरी तक चलेगा जबकि दूसरा हिस्सा 8 मार्च से 8 अप्रैल तक चलेगा।  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 29 जनवरी को संसद के केंद्रीय कक्ष में दोनों सदनों की बैठक को संबोधित करेंगे। केंद्रीय वित्त मंत्री एक फरवरी को 11 बजे केंद्रीय बजट पेश करेंगी।

संसद की थाली से हटी ‘रियायत’
लोकसभा अध्यक्ष ने बताया कि बजट सत्र के दौरान संसद भवन की कैंटीन में सांसदों व अन्य लोगों को दी जाने वाली सब्सिडी पूरी तरह हटा दी गई है। इसलिए अब संसद में मिलने वाली भोजन की थाली पर कोई रियायत नहीं मिलेगी।

यह खबर भी पढ़े: अनंतनाग से जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी गिरफ्तार

From around the web