टीवी चैनलों पर प्रसारित होने वाले कुछ कंडोम एड अश्लील फिल्मों की तरह दिखते हैं, युवाओं के दिमाग को करते हैं प्रभावित: हाईकोर्ट

 


नई दिल्ली। जब भी आप कोई टीवी चैनल देखते हैं फिर चाहे वो कोई न्यूज़ चैनल ही क्यों न हो या फिर कोई एंटरटेनमेंट चैनल. कंडोम के विज्ञापन आपको कहीं भी दिखाई देंगे। इसी बीच मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै खंडपीठ ने हाल ही में सेक्सुअल विज्ञापनों को लेकर एक तल्ख टिप्पणी की है। एक याचिका पर सुनवाई करते हुए मद्रास हाई कोर्ट की जस्टिस एन. किरुबाकरन और बी. पुगलेंधी की बेंच ने कहा, बेहद हैरान करने वाली बात यह कि रात 10 बजे के आसपास करीब-करीब हर टीवी चैनल पर एक ही तरह के विज्ञापन आ रहे होते हैं जो हर टीवी चैनल पर आते हैं। कुछ विज्ञापन तो ऐसे हैं, जो अफ़्रोडिसियक किस्म के लगते हैं।  इन्हें प्रचलित तौर पर लव ड्रग्स कहा जाता है। ये पॉर्न फिल्म से कम भी नहीं हैं।

नग्नता को देते हैं बढ़ावा

खबर के अनुसार कोर्ट ने कहा कि सैटेलाइट टीवी चैनलों पर प्रसारित होने वाले कुछ कंडोम विज्ञापन अश्लील फिल्मों की तरह दिखते हैं और युवाओं के दिमाग को प्रभावित करते हैं। ऐसे विज्ञापनों पर चिंता जाहिर करते हुए कोर्ट ने कहा कि ऐसे विज्ञापन महिलाओं को इस तरीके से चित्रित करते हैं जो शालीनता और मानदंडों का उल्लंघन करते हैं।

न्यायमूर्ति बी पुगलेंधी और एन किरुबारकान की पीठ ने कहा कि लगभग सभी टीवी चैनल रात 10 बजे के बाद कुछ विज्ञापनों का प्रसारण करते हैं जिनमें कंडोम की बिक्री को बढ़ावा देने के लिए नग्नता होती है। ऐसी सामग्री केबल टेलीविजन नेटवर्क नियम, 1994 और केबल टेलीविजन नेटवर्क (विनियमन) अधिनियम, 1995 के प्रावधानों का उल्लंघन करती है।

यह खबर भी पढ़े: अमेरिका और इजरायल ने भारत को दिया ऐसा हथियार! चीन और पाकिस्‍तान की उड़ी रातों की नींद

यह खबर भी पढ़े: UP: लव जिहाद पर बना कानून आज से लागू, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने दी मंजूरी

From around the web