‘प्रधानमंत्री मोदी और उनकी सरकार का सिख समुदाय के साथ अटूट सम्बन्ध’, इन 13 बिंदुओं को खासतौर पर दर्शाया

 


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार का सिखों से खास लगाव है। पिछले छह सालों में प्रधानमंत्री ने कई बार सिख समुदाय के लिए खास योजनाओं की शुरुआत की। उनके सिख समुदाय के गहरे रिश्ते को बयां करने के लिए एक किताब लिखी गयी है। गुरु नानक जी के संदेशों पर आधारित, सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा प्रकाशित पुस्तक ‘प्रधानमंत्री मोदी और उनकी सरकार का सिख समुदाय के साथ अटूट सम्बन्ध’ का केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और हरदीप पुरी ने विमोचन किया। 

इस किताब में प्रधानमंत्री मोदी ने सिख समाज के लिए क्या-क्या काम किये हैं इस बारे में विस्तार से बताया गया है। कुल 13 बिंदुओं को खासतौर पर दर्शाया गया है जो निम्नलिखित हैं--

1) केन्द्र सरकार ने अमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर यानि हरमिंदर साहिब में विदेश में रहने वाले सिख लोगों को सेवा में भाग लेने की सुविधा प्रदान की। अब हरमिंदर साहिब विदेशों से मिलने वाले चंदे को प्राप्त कर सकते हैं।
2) लंगर सेवा को सभी तरह के कर से मुक्त कर दिया। केन्द्र सरकार ने सेवा भोज योजना के तहत लंगर के सामान को जीएसटी मुक्त कर दिया।
3) केन्द्र सरकार ने 120 करोड़ रुपये की लागत से करतारपुर साहिब कोरिडोर विकसित किया जिससे पाकिस्तान और भारत से श्रद्धालुओं का आना सुगम हो गया। इस सुविधा से 15000 श्रद्धालु रोजाना यात्रा कर सकते हैं।
4) गुरुनानक देव जी के 550 वें प्रकाश पर्व के मौके पर सुल्तानपुर लोधी को हेरिटेज शहर के रूप में विकसित किया गया। इस शहर में गुरु नानक देव जी ने अपना जीवन बिताया। यहां पर एक विशेष रेल भी चलाई गई, जो सप्ताह में पांच दिन चलती है। एक टेलिस्कोप भी स्थापित किया गया है, जिससे करतारपुर साहिब के दर्शन किए जा सकते हैं। 
5) अमृतसर स्थित गुरुनानाक देव विश्वविद्यालय में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंटर फेथ स्टडीज की स्थापना की गई। इसके लिए 67 करोड़ रुपये दिए गए। भाईचारे को बढ़ावा देने वाले इस केन्द्र में सालों भर सेमिनार और वर्कशॉप भी आयोजित किए जाते हैं।

6) गुरुनानक देव जी की शिक्षा को दुनियाभर में प्रचार-प्रसार करने के लिए आईसीसीआर ने इंटरनेशनल सेमिनार का आयोजन किया। इसके अलावा गुरबानी का विभन्न भारतीय भाषाओं में प्रकाशन किया गया। दुनियाभर में भारतीय दूतावासों में 550वें प्रकाश पर्व के मौके पर विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। कीर्तन, कथा, प्रभात फेरी, लंगर का आयोजन किया गया। 
7) गुरु गोबिन्द सिंह जी के 350वीं. जयंती के मौके पर प्रकाश पर्व मनाया गया। इसके लिए केन्द्र सरकार ने 100 करोड़ रुपये का आवंटन किया, 350 रुपये का सिक्का जारी किया गया, श्री अकाल तख्त साहिब, श्री दमदमा साहिब, श्री केशगढ़ साहिब, श्री पटना साहिब और श्री हुजूर साहिब के बीच रूट को विकसित किया गया। जामनगर में 750 बिस्तरों वाला अस्पताल का उद्घाटन किया।
8) अमेरिका, यूके, कनाडा में रहने वाले सिखों को ब्लैकलिस्ट की सूचा से हटाया। पहले इस सूची में 314 लोग थे अब सिर्फ दो लोग हैं। इससे वे लोग अब अपने घर लौट कर परिवारों से मिल सकते हैं।
9) सिख समुदाय की लंबित मांगों को किया पूरा। अनुच्छेद 370 हटने से जम्मू कश्मीर में रहने वाले को सामान अधिकार मिला, अफगानिस्तान और पाकिस्तान से आए सिख शर्णाथियों को नागरिकता दी।
10) 1984 के सिख दंगों में प्रभावित लोगों को न्याय दिलवाने के लिए स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम का गठन करवा कर मामले की दोबारा से जांच करवाई। इस मामले में सभी को बरी कर दिया गया था। सिख दंगों के तीस सालों के बाद 80 मामले की दोबारा से जांच शुरू करवाई। तीन साल के अंदर ही इस मामले में कई बड़ी हस्तियों को सजा हुई। इससे पहले किसी ने नहीं सोचा था कि बड़ी राजनीतिक हस्तियों को भी सजा हो सकती है।

11) सिख धरोहर से दुनिया को रूबरू कराने के लिए पर्यटन मंत्रालय ने स्वेदश दर्शन स्कीम के तहत आनंदपुर साहिब-फतेहगढ़ साहिब-चमकौर साहिब-फिरोजपुर-अमृतसर-खटकर कलान-कलानौर-पटियाला हेरिटेज सर्किट के विकास कार्य को शुरू किया। गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के मौके पर सुल्तानपुर लोदी सहित 12 स्थानों पर मल्टीमीडिया प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। नांदेड़ और अमृतसर के बीच हवाई यात्रा की शुरुआत की गई। इसके साथ अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अमृतसर स्थित हरमिंदर साहिब का भी दौरा किया था।
12) जलियांवाला बाग में नेशनल मेमोरियल के निर्माण के लिए लोकसभा में नेशनल मेमोरियल बिल 2019 लाया गया। जलियांवाला बाग में शहीदों की याद में 100 साल पूरे होने के मौके पर उन शहीदों को याद किया।
13) सिख समुदाय के युवाओं को 31 लाख से भी ज्यादा स्कॉलरशिप दी गई, जबकि 2014 से पहले तक सिर्फ 18 लाख सिख समुदाय के छात्रों को स्कॉलरशिप दी गई। इसके अलावा 10 लाख से ज्यादा सिख युवाओं ने हुनर हाट, गरीब नवाज रोजगार योजना, सीखो और कमाओं, नई मंजिल, रोजगार के नए मौके जैसी योजनाओं से लाभ उठाया। इसके अलावा पीएम जनविकास कार्यक्रम के तहत 24 प्रतिशत से ज्यादा काम सिख बहुल क्षेत्रों में हुआ।

यह खबर भी पढ़े: दिल्ली चलो मार्च: किसान आंदोलन को समर्थन देने सिंघु बॉर्डर पहुंची 'बिल्किस दादी' को हिरासत में लिया

From around the web