द. भारत में निवार का कहर जारी, कई जिलों में लगातार बारिश और तेज हवाओं ने ढाया कहर, दोपहर 12 बजे तक तूफान कमजोर पड़ने की संभावना

 


नई दिल्ली। बंगाल की खाड़ी से उठा चक्रवाती तूफान निवार दक्षिण भारत में भारी तबाही मचा रहा है। यह चक्रवाती तूफान बुधवार देर रात पुडुचेरी के समुद्र तट से टकरा गया। लैंडफॉल की यह प्रोसेस रात 11.30 बजे से 2.30 बजे तक चली। अब इसकी रफ्तार कम होती जा रही है। हवा की रफ्तार भी घटकर 65 से 75 किलोमीटर प्रतिघंटा रह गई। हालांकि, मौसम विभाग का कहना है कि खतरा अभी टला नहीं है।

तूफान आधी रात के बाद तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटों से गुजरता हुआ आगे निकल चुका है। पुडुचेरी और तमिलनाडु कराइकल,नागापट्टनम और चेन्नई में कल से ही लगातार बारिश हो रही है। बारिश की वजह से अधिकतर इलाकों में जलभराव है। 

चेन्नई के मौसम विभाग के मुताबिक, अगले 6 घंटे में (दोपहर 12 बजे तक) तूफान कमजोर पड़ जाएगा। तमिलनाडु के मंत्री आरबी उदयकुमार के मुताबिक, तूफान के चलते किसी की भी जान नहीं गई। फसलें खराब होने की भी कोई सूचना नहीं है। कुछ इलाकों में दीवार गिरने की घटनाएं हुई हैं। 2.5 लाख लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया।

चक्रवात निवार के कारण चेन्नई एयरपोर्ट (Chennai Airport) पर विमान परिचालन कल शाम 7 बजे से आज सुबह 7 बजे तक के लिए निलंबित कर दिया गया था। जिसे कुछ समय के लिए बढ़ा दिया गया है। ताजा जानकारी के मुताबिक चेन्नई एयरपोर्ट अब सुबह 9 बजे तक बंद रहेगा। 

वहीं निवार से होने वाली तबाही को देखते हुए तमिलनाडु के 13 जिलों में 26 नवंबर को छुट्टी का ऐलान कर दिया गया है, जिनमें चेन्नई, वेल्लोर, कुड्डालोर, विलुपुरम, नागापट्टनम, थिरुवरूर, चेंगालपट्टू और पेरम्बलोर जैसे शहर शामिल हैं। 

तमिलनाडु के कुड्डालोर में सबसे ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की गई। यहां बुधवार रात 8.30 से रात 2.30 बजे तक 24.6 सेमी बारिश रिकॉर्ड की गई। वहीं, पुडुचेरी में इस दौरान 23.7 सेमी बारिश हुई। यहां बारिश अभी भी जारी है। नागपट्टनम में इस दौरान 6.3 सेमी, कराईकल में 8.6 सेमी और चेन्नई में 8.9 सेमी बारिश रिकॉर्ड की गई। मुख्यमंत्री ई पलानीसामी ने गुरुवार को भी प्रभावित इलाके के लोगों से घर में रहने की अपील की है।

यह खबर भी पढ़े: सर्वे के नतीजों से चौंका फेसबुक/ सबसे अधिक दिखने वाला कंटेंट ही दुनिया के लिए सबसे बुरा, जकरबर्ग भी सहमत

 

From around the web