पुलिस ने तीन रूटों पर किसानों की ट्रैक्टर परेड को दी अनुमति

 


नई दिल्ली। किसान यूनियन के नेताओं और दिल्ली पुलिस के बीच कई दौर की वार्ताओं के बाद 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड को लेकर सहमति बन गई है। पुलिस ने तीन रूटों पर ट्रैक्टर परेड निकालने की सशर्त अनुमति किसानों को दी है। किसानों के आंदोलन वाले तीनों बॉर्डर से बैरिकेड हटाए जाएंगे। पुलिस ने परेड में ट्रैक्टर के साथ ट्रॉली लाने पर पाबंदी लगाई है। पुलिस के मुताबिक किसानों की परेड में गड़बड़ी फैलाने के लिये पाकिस्तान में 13 से 18 जनवरी के बीच 308 नये ट्विटर हैंडल बनाए गए हैं।

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी दीपेंद्र पाठक ने रविवार शाम छह बजे पुलिस मुख्यालय में प्रेस वार्ता करके बताया कि इस परेड में गड़बड़ी फैलाने के लिए पाकिस्तान में 308 ट्विटर हैंडल बनाए गये हैं। इन पर पुलिस की नजर बनी हुई है। किसानों को भी पूरी सावधानी बरतनी होगी। आगे उन्होंने कहा कि खुफिया और विभिन्न अन्य एजेंसियों के माध्यम से हमें ट्रैक्टर परेड में गड़बड़ी पैदा करने के लिए लगातार इनपुट मिल रहे हैं। 

सिंघु बॉर्डर से ट्रैक्टर परेड का रूट
किसानों ने इसे 'किसान गणतंत्र परेड' का नाम दिया है। ट्रैक्टर परेड के रूट के अनुसार किसान सिंघु बॉर्डर से दिल्ली में 10 किलोमीटर भीतर दाखिल होंगे। इसके बाद संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर, बवाना, कंझावाला, कुतुबगढ़ होते हुए चंडी बॉर्डर पहुंचेंगे। फिर हरियाणा में दाखिल होंगे और वापस सिंघु बॉर्डर आएंगे। पुलिस के अनुसार 100 किलोमीटर के इस मार्च का 45 किलोमीटर हिस्सा दिल्ली में होगा।
 
टिकरी बॉर्डर से ट्रैक्टर परेड का रूट
पुलिस के अनुसार किसान टिकरी बॉर्डर से नांगलोई जाएंगे। फिर वहां से बापरोला गांव होते हुए नजफगढ़ पहुंचेंगे। इसके बाद किसानों की ट्रैक्टर परेड झारोडा बॉर्डर पहुंचेगी। यहां से किसान ट्रैक्टरों के साथ रोहतक बाईपास (बहादुरगढ़) पहुंचेंगे और उसके बाद असोदा होते हुए वापस टिकरी बॉर्डर आएंगे। 

गाजीपुर बॉर्डर से ट्रैक्टर परेड का रूट
गाजीपुर बॉर्डर से किसानों की ट्रैक्टर परेड कुल 46 किलोमीटर की दूरी तय करके अप्सरा बॉर्डर तक जाएगी। यहां से किसान हापुड रोड होते हुए आईएमस कॉलेज जाएंगे। आईएमस से किसानों के ट्रैक्टर लाल कुआं होते हुए वापस गाजीपुर बॉर्डर आएंगे। 

चिल्ला बॉर्डर से ट्रैक्टर परेड का रूट
चिल्ला बॉर्डर से किसान क्राउन प्लाजा रेड लाइट पहुंचेंगे। यहां से किसानों के ट्रैक्टर डीएनडी फ्लाईओवर से होते हुए दादरी रोड की ओर जाएंगे। वहां से किसान सीधा चिल्ला बॉर्डर वापस आएंगे।

यह खबर भी पढ़े: मुख्यमंत्री ममता ने कहा- बंगाल में कन्याश्री योजना ने लड़कियों को बनाया सशक्त

From around the web