आंदोलन में जन-जन की सहभागिता रही, अब पुनः निर्माण में भी सहभागिता हो: चम्पत राय

 


हरिद्वार। श्रीराम मंदिर तीर्थ क्षेत्र न्यास के महामंत्री चंपत राय ने कहा कि अयोध्या में श्रीराम का मंदिर हिन्दू भावनाओं का मंदिर है। मन्दिर के पुनः निर्माण के लिए लाखों लोगों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया है। कई पीढ़ियां इस सपने को देखते-देखते दुनिया से चली गईं।

महामंत्री राय आज राम निर्माण के लिए समर्पण निधि संग्रह अभियान का प्रारम्भ करने हरिद्वार पहुंचे। निधि संग्रह अभियान के नमित हरकी पौड़ी पर मां गंगा के पावन तट पर गंगा पूजन के साथ समर्पण संग्रह साहित्य का भी पूजन किया गया है। इस मौके पर राय ने कहा कि 492 वर्ष के संघर्ष के बाद अब यह मौका आया है। अब भगवान राम का भव्य मंदिर अयोध्या में बनने जा रहा है। मन्दिर निर्माण में प्रत्येक हिन्दू का सहयोग व समर्पण हो, इसके लिए राम भक्तों की टोलियां घर-घर जाकर समर्पण निधि एकत्र करेंगी। उन्होंने बताया कि 15 जनवरी मकर संक्रति से पूरे देश में मन्दिर के पुनः निर्माण के लिए समर्पण निधि संग्रह अभियान शुरू होने जा रहा है।

मां गंगा के पावन तट पर भाव विभोर होते हुए चम्पत राय ने कहा कि हमने हरिद्वार से ही राम मंदिर आंदोलन का आह्वान किया था और आज यही से मन्दिर निर्माण के लिए निधि संग्रह अभियान का प्रारम्भ हो रहा है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर से राष्ट्र मन्दिर बने, इसके लिए प्रत्येक हिन्दू का समर्पण जरूरी है। उन्होंने कहा कि श्रीराम मंदिर आंदोलन में जन-जन की सहभागिता रही थी, इसलिए इसके पुनः निर्माण में भी जन सहभागिता होनी चाहिए।

इस मौके पर श्रीगंगा सभा के अध्यक्ष प्रदीप झा के निर्देशन में गंगा पूजन व समर्पण निधि पुस्तिकाओं का भी पूजन किया गया। इस अवसर पर विहिप के केंद्रीय मंत्री अशोक तिवारी, आरएसएस के प्रांत प्रचारक युद्धवीर सिंह, अभियान समिति के विभाग अध्यक्ष महन्त रूपेंद्र प्रकाश महाराज, नगर अध्यक्ष स्वामी रवि देव शास्त्री, नगर संचालक डॉ. यतीन्द्र नागयन, विभाग प्रचारक शरद कुमार, नगर प्रचारक रमेश मुखर्जी और उज्ज्वल पण्डित आदि मौजूद थे।

यह खबर भी पढ़े: कृषि कानूनों पर जयराम रमेश का तंज, बोले- लोगों पर बातें थोपना ही ‘न्यू इंडिया’

From around the web