सड़क परिवहन मंत्रालय और IIT रुड़की के बीच प्रोफेसर पीठ जारी रखने का समझौता

 


नई दिल्ली। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्‍थान (आईआईटी) ने शुक्रवार को एक समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए। इस समझौता ज्ञापन के तहत आईआईटी रुड़की में राजमार्ग अवसंरचना विकास के क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास तथा पठन-पाठन एवं प्रशिक्षण पर केन्द्रित एक प्रोफेसर पीठ जारी रखने पर सहमति हुई।

समझौता ज्ञापन पर मंत्रालय के सड़क विकास महानिदेशक और विशेष सचिव इन्‍द्रेश कुमार पांडेय और आईआईटी रुड़की के सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर एवं उप-निदेशक प्रोफेसर मनोरंजन परीदा ने हस्‍ताक्षर किए। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय में सचिव गिरि‍धर अरमाने ने इस कार्यक्रम की अध्‍यक्षता की।

दोनों संगठनों ने इस बात पर सहमति जताई कि आईआईटी रुड़की में मंत्रालय की प्रोफेसर पीठ को जारी रखने से सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के दूत के तौर पर देश भर में राजमार्गों का विकास होगा। आईआईटी रुड़की और भारतीय अकादमिक क्षेत्र में राजमार्गों के संबंध में नवाचार, अनुसंधान और विकास को प्रोत्‍साहित करेगा। राजमार्गों के संबंध में अध्‍ययनों की सुविधा देना और राजमार्ग विकास परियोजनाओं के पर्यावरण एवं सामाजिक प्रभावों के अध्‍ययन की सुविधा देना। 

राजमार्ग विकास के लिए योजना, डिजाइन, निर्माण, परिचालन एवं रखरखाव के क्षेत्रों में तकनीकी संवर्द्धन कराना और इसके लिए मानक स्‍तर, दिशा निर्देश, सेमिनार, प्रशिक्षण और यूजर मैनुअल तैयार कराना। मंत्रालय, आईआईटी, रुड़की और भारतीय अकादमिक क्षेत्र की सहभागिता में वैज्ञानिक अनुसंधान के जरिए राजमार्गों की व्‍यावहारिक समस्‍याओं का समाधान तलाशना। आईआईटीआर एवं राजमार्गों संबंधी अध्‍ययन से जुड़ी अन्‍य शिक्षण संस्‍थाओं में राजमार्ग इंजीनियरिंग तथा अन्‍य संबद्ध पहलुओं से संबंधित संसाधनों का इस्‍तेमाल और उनका विस्‍तार कराया जा सकेगा।

यह खबर भी पढ़े: किसान संगठनों और सरकार के बीच 11वें दौर की बातचीत भी रही बेनतीजा

From around the web