बर्फानी तेंदुए की आबादी का आकलन करने वाला पहला राज्य बना हिमाचल

 


शिमला। राज्य वन विभाग के वन्यप्राणी प्रभाग ने बेंगलुरु के प्रकृति संरक्षण फाउण्डेशन के सहयोग से राज्य में बर्फानी तेन्दुए की आबादी का आकलन पूरा कर लिया है। पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मन्त्रालय के स्नो लैपर्ड पॉपुलेशन असेसमेन्ट इन इण्डिया के प्रोटोकोल के आधार पर बर्फानी तेन्दुए का आकलन करने वाला हिमाचल प्रदेश पहला राज्य बन गया है। हिमाचल में बर्फानी तेन्दुए की अनुमानित आबादी 73 है। 

बर्फानी तेन्दुआ हिमाचल प्रदेश का राज्य पशु है इसलिए प्रदेश के लिए इस आकलन का विशेष महत्व है। वन मन्त्री राकेश पठानिया ने इस प्रयास के लिए वन्यप्राणी प्रभाग की सराहना करते हुए कहा कि लम्बी अवधि के ऐसे आकलन काफी उपयोगी साबित हो सकते हैं और हिमाचल प्रदेश दूसरे राज्यों के लिए एक उदाहरण भी बन सकता है। राकेश पठानिया ने कहा कि इस अभियान के नतीजे भविष्य में बर्फानी तेन्दुओं की आबादी का आकलन करने के लिए लम्बी अवधि की परियोजना स्थापित करने का मज़बूत आधार बन सकता है। 

प्रधान मुख्य अरण्यपाल वन्य प्राणी अर्चना शर्मा ने कहा कि हिमाचल में हिम तेंदुए का घनत्व 0.08 से 0.37 प्रति सौ वर्ग किलोमीटर है। स्पीति, पिन घाटी और ऊपरी किन्नौर के हिमालयी क्षेत्रों में बर्फानी तेन्दुए और उसके शिकार जानवरों आइबैक्स और भरल का घनत्व सबसे अधिक पाया गया है। पहाड़ी इलाकों में कैमरा ट्रैप की तैनाती किब्बर गांव के आठ स्थानीय युवाओं की एक टीम के नेतृत्व में की गई थी। इस तकनीक के अंतर्गत एचपीएफडी तकनीक के 70 से अधिक फ्रंटलाइन स्टाफ को भी परियोजना के हिस्से के रूप में प्रशिक्षित किया गया। 

उन्होंने कहा कि सभी दस स्थलों भागा, हिम, चंद्र, भरमौर, कुल्लू, मियार, पिन, बसपा, ताबो और हंगलंग में हिम तेंदुए का पता चला है। भागा अध्ययन से यह पता भी चला है कि बर्फानी तेन्दुए की एक बड़ी संख्या संरक्षित क्षेत्रों के बाहर है जो यह दर्शाता है कि स्थानीय समुदाय हिम तेंदुए के परिदृश्य में संरक्षण के लिए सबसे मजबूत सहयोगी हैं। एनसीएफ और वन्य जीव विंग ने इस प्रयास में सहयोग किया और मूल्यांकन को पूरा करने में तीन साल लग गए।

यह खबर भी पढ़े: राजपथ पर राममंदिर, श्रम सुधारों और कोविड वैक्सीन विकास से जुड़ी झांकियां देंगी दिखाई

From around the web