टिकरी बॉर्डर पर किसान ने खाया जहरीला पदार्थ, सुसाइड नोट में लिखी ये बात

 


नई दिल्ली। कृषि कानून के खिलाफ टिकरी बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे एक किसान ने मंगलवार देर शाम जहरीला पदार्थ खा लिया, जिसकी इलाज के दौरान देर रात मौत हो गई। आत्महत्या करने वाले किसान की पहचान जय भगवान के रूप में हुई है, वह रोहतक जिले के पाकिस्मा गांव का रहने वाला था। जय भगवान के जहर खाने के बाद आंदोलन में शामिल किसानों ने टिकरी बॉर्डर पर तैनात पुलिस बल की मदद से जय भगवान को एंबुलेंस के द्वारा उसे नजदीकी संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उसकी उपचार के दौरान देर रात मौत हो गई। 

किसानों की कर रहा था सेवा
जानकारी के अनुसार, मृतक जय भगवान कई दिनों से आंदोलन कर रहे किसानों की  सेवा कर रहा था और उनके लिए दूध और सब्जी लाकर उनकी मदद करता था। जय भगवान के लिखे गए सुसाइड नोट में उसने कहा कि जिंदा किसानों की कोई नहीं सुन रहा है, क्या पता मुर्दा किसान की ही कोई सुन ले ? इसलिए उसने आत्महत्या करने के लिए जहर खाया है। आगे नोट में लिखा है कि हर राज्य से दो-दो किसान नेता बुलाओं अगर अधिकतर विरोध करें तो सरकार कानून को रद्द करें और पक्ष में ज्यादा लोग हो तो आंदोलन खत्म करो।

यह खबर भी पढ़े: रिपोर्ट में हुआ खुलासा: चीन और WHO की लापरवाही का शिकार हुई पूरी दुनिया!

From around the web