अर्नब गोस्वामी व्हाट्सअप चैट को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर साधा निशाना, कहा- गोपनीय जानकारी लीक करना राष्ट्रद्रोह

 


नई दिल्ली। रिपब्लिक टीवी के सम्पादक अर्नब गोस्वामी तथा टीवी रेटिंग एजेंसी ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बीएआरसी) के पूर्व सीईओ पार्थ दासगुप्ता के बीच हुए व्हाट्सअप चैट को लेकर कांग्रेस पार्टी ने केंद्र सरकार को निशाने पर लिया है। उसने कहा है कि चैट के लीक होने पर जो तथ्य सामने आए हैं वो राष्ट्रीय सुरक्षा पर सवाल खड़े करते हैं। कांग्रेस ने गोपनीय जानकारी लीक करने को राष्ट्रदोह बताते हुए दोषियों को सजा दिए जाने की मांग की है।

पूर्व रक्षामंत्री एके एंटनी, पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे, पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद, राज्यसभा में कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद तथा कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने बुधवार को पार्टी मुख्यालय में पत्रकारवार्ता में व्हाट्सअप चैट लीक मामले को लेकर सरकार को घेरा। एके एंटनी ने कहा कि पुलवामा के शहीद जवानों को लेकर जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल अर्नब और दासगुप्ता ने किया वह पीड़ादायक है। उन्‍होंने कहा कि सैन्य कार्रवाई से पूर्व ही इसकी जानकारी किसी पत्रकार को होना राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरनाक है। ऐसे ऑपरेशंस अत्यंत गोपनीय होते हैं और इसका लीक होना राष्ट्रद्रोह है। इसके दोषियों को सजा मिलनी चाहिए।

एंटनी ने कहा कि व्हाट्सअप चैट के लीक होने से हर देशभक्त भारतीय स्तब्ध है, क्योंकि यह राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा मामला है। उन्होंने कहा कि दो राजनीतिक दल और लोग किसी मुद्दे पर अलग-अलग मत रख सकते हैं लेकिन राष्ट्रीय सुरक्षा के विषय पर पूरा देश एकसाथ खड़ा होता है और आज भी वैसा ही मौका है। उन्होंने कहा कि यह अजीब है कि राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी संवेदनशील जानकारी कुछ ऐसे लोगों के पास थी, जिनके पास नहीं होनी चाहिए। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि इस प्रकार की गूढ़ जानकारी सरकार में शीर्ष पदों पर बैठे चार-पांच लोगों को ही होती है, तो फिर कैसे एक पत्रकार विशेष को इसकी जानकारी हुई। वो भी बालाकोट एयर स्ट्राइक से पहले। इस मामले की जांच होनी चाहिए और दोषियों को सजा मिलनी चाहिए।

पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा कि गोपनीय जानकारी लीक करना एक आपराधिक कृत्य है और संसद के आगामी सत्र में कांग्रेस इस मुद्दे को जोर-शोर से उठाएगी। उन्होंने कहा कि ‘सरकारी गोपनीयता अधिनियम के तहत जो करना चाहिए था, वो भी नहीं किया गया। मुझे उम्मीद है कि जांच होगी और जो गुनाह हुआ है उसकी सजा मिलेगी।’

वरिष्ठ कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने व्हाट्सअप चैट में कोर्ट मैटर का जिक्र होने की बात का हवाला देते हुए कहा कि न्यायपालिका न्याय का मंदिर है लेकिन इसे लेकर भी राजनीति हो रही है। जिसका प्रमाण व्हाट्सअप की बातचीत में साफ मिलता है, जो बहुत दुखद है। लीक चैट में पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली को लेकर हुई बातों पर भी खुर्शीद ने दुख व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि दिवंगत वरिष्ठ नेता के खराब स्वास्थ्य के समय उनके लिए गलत शब्दों का प्रयोग कुत्सित मानसिकता का परिचायक है, यह बात विचलित करने वाली है।

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि 73 साल के इतिहास में राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ ऐसा खिलवाड़ पहले नहीं हुआ। वर्तमान में जो कुछ दिख रहा है यह भी अद्भुत है। आजाद हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री, उनके कार्यालय, गृहमंत्री एवं पूरी सरकार की मर्यादा को छिन्न-भिन्न होते हुए भी यह देश देख रहा है। देश के संविधान की शपथ लेने वालों पर ऐसा प्रश्न चिन्ह पहले कभी नहीं लगा।

यह खबर भी पढ़े: हरियाणा के स्कूलों में एक फरवरी से शुरू होगी पढ़ाई

 

From around the web