देशभर में 31 लाख लोगों को ठगने वाली फ्यूचर मेकर के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

 


चंडीगढ़। प्रवर्तन निदेशालय ने शनिवार को अहम कार्रवाई करते हुए देशभर में 31 लाख निवेशकों का पैसा ठगने वाली हिसार की फ्यूचर मेकर लाइफकेयर कंपनी और निदेशकों के विरुद्ध चार्जशीट दाखिल की है। पंचकूला स्थित पीएमएलए अदालत में दायर चार्जशीट में दोनों आरोपित निदेशकों को सजा देने और 261.35 करोड़ की संपत्ति को जब्त करने की सिफारिश की गई है। 

फ्यूचर मेकर ने रातों-रात अमीर बनने का सपना दिखाकर हरियाणा समेत कई राज्यों में 31 लाख लोगों को ठगा है। कंपनी प्रबंधकों के खिलाफ हरियाणा और तेलंगाना में कई मामले दर्ज हैं। ईडी ने चार्जशीट में कंपनी के दो निदेशकों राधेश्याम तथा बंसीलाल के खिलाफ धनशोधन रोधक अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत आरोपपत्र दायर किया गया है। यह कंपनी तेलंगाना में भी काम करती है। वहां उसके खिलाफ पहले से मुकदमा दर्ज हो चुका है। चार्जशीट में कहा गया है कि कंपनी और उसके निदेशकों ने लोगों को बड़े-बड़े सपने दिखाए और धन दोगुना करने के साथ ही पोंजी तथा विभिन्न तरह की मार्केट स्कीम में पैसा लगाने के लिए प्रेरित करते हुए उनके साथ बड़े स्तर की धोखाधड़ी की। कंपनी की ठगी का शिकार 31 लाख लोग हुए हैं, जो न केवल हरियाणा बल्कि देश के विभिन्न राज्यों में रहते हैं। प्रवर्तन निदेशालय ने स्पेशल कोर्ट से 261.35 करोड़ की संपत्ति अटैच करने की अनुमति मांगी है, जो कि कंपनी व उसके निदेशकों के नाम है।

प्रवर्तन निदेशालय के अनुसार राधेश्याम और बंसीलाल हरियाणा के हिसार में फ्यूचर मेकर लाइफ केयर प्राइवेट लिमिटेड तथा एफएमएलसी ग्लोबल मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड के नाम से कंपनी चलाते हैं। इन कंपनियों के माध्यम से उन्होंने अपने एजेंटों के जरिये भोले-भाले लोगों को विभिन्न मार्केट स्कीम में उलझा लिया। कंपनी की ओर से विभिन्न पोंजी स्कीम का संचालन किया जा रहा था, जिसमें लोग फंस गए। ईडी ने अपनी चार्जशीट रिपोर्ट में कहा है कि कंपनी के निदेशकों ने दो साल में निवेश का पांच से आठ गुना तक वापसी का भरोसा दिलाया था। इसके लिए कंपनी ने देश के विभिन्न हिस्सों में कार्यक्रम करके लोगों को आकर्षित किया।

यह खबर भी पढ़े: प्रधानमंत्री आवास के लाभार्थियों की जांच में 1440 अपात्र लाभार्थी

From around the web