loading...
महाराष्ट्र: हेलीकॉप्टर दुर्घटना में बाल बाल बचे CM देवेंद्र फडणवीस केन्द्रीय गृह मंत्रालय को भेजी सहारनपुर हिंसा की रिपोर्ट PM मोदी आज करेंगे ब्रहमपुत्र नदी पर बने देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन अगर EVM से छेड़छाड़ की इजाजत दी, तो मशीन की वास्तविकता खत्म हो जाएगी: EC बिहार: एकाएक बस में आग लगने से 20 यात्रियों की मौत नवीन मेडिकल कॉलेजों में एमसीआई मापदंड़ों का पालन हो : कालीचरण सराफ राजस्थान विश्वविद्यालय के पंचवर्षीय लॉ कॉलेज में भ्रष्टाचार का बड़ा खुलासा अजमेर को मिली नई सौगात, स्मार्ट सिटी के तहत एलिवेटेड रोड का होगा निर्माण इस कंपनी ने दिया जीएसटी धमाका, लग्जरी कारें हुई 7 लाख रुपए तक सस्‍ती सहारनपुर लड़ाई को लेकर बसपा ने लगाए बीजेपी पर आरोप, कहा - भीम आर्मी बीजेपी का प्रोडक्ट चैंपियंस ट्रॉफी, भारतीय टीम इन दो खिलाड़ियों के बिना पहुंची इंग्लैंड बिहार: चलती बस में लगी आग,20 यात्री जिंदा जले,सरकार ने दिए जांच के आदेश कल होगा ढोला-सदिया पुल का उद्घाटन, पूर्वोत्‍तर के लिए खुलेंगे नए रास्ते वनस्थली विद्यापीठ टोंक से आई पत्रकारिता की छात्राओं ने विधानसभा अध्यक्ष से की मुलाकात इन तस्वीरों के कारण लोग बनते है हंसी के पात्र, ये है कुछ फनी तस्वीरें जयपुर पुलिस आयुक्तालय को फिक्की से मिला बेस्ट प्रेक्टिसेज इन स्मार्ट पुलिसिंग का अवॉर्ड आपदा जोखिम न्‍यूनीकरण वैश्विक मंच में भारतीय प्रतिनिधि मंडल लेगा हिस्सा : किरण रिजिजू प्रेमी ने प्रेमिका को बात न मानने पर उतरा मौत के घाट ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट ’ग्राम कोटा’ में स्मार्ट फार्म में किसान दिखा रहे है रूचि देश का सबसे लंबा पुल हुआ तैयार, मोदी कल करेंगे उद्घाटन
पोंगल के मौके पर जलीकट्टू नहीं होगा, SC ने शनिवार से पहले आदेश देने से किया इंकार
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:50:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार से पहले जलीकट्टू पर फैसला देने वाली अर्जी को ठुकरा दिया है। कोर्ट ने कहा कि बेंच को आदेश पास करने के लिए कहना अनुचित है। जलीकट्टू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के नोटिफिकेशन पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई थी कि जलीकट्टू को लेकर अदालत ने जो आदेश सुरक्षित कर रखा है, उस पर शनिवार से पहले आदेश सुना दिया जाए। कोर्ट ने कहा फैसले का ड्रॉफ्ट तैयार हो गया है लेकिन शनिवार से पहले आदेश सुनाना संभव नहीं है। बता दें कि जल्लीकट्टू यानी सांड़ों की दौड़ पर रोक के खिलाफ तमिलनाडू सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था।


दरअसल 22 जनवरी 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर लगाई गई रोक पर पुनर्विचार करने से मना कर दिया था। तमिलनाडु के कुछ निवासियों की तरफ से दायर पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगाई थी। वहीं केंद्र सरकार ने 8 जनवरी को अधिसूचना जारी कर जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था। अधिसूचना में कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए थे। पशु कल्याण बोर्ड, पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स, बेंगलुरू के एक एनजीओ और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में अधिसूचना को चुनौती दी थी। याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अधिसूचना पर रोक लगा दी थी।

 
पिछले साल जुलाई में तमिलनाडू सरकार ने याचिका में परंपरा का हवाला दिया था। इस पर जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा था कि - इस दलील में दम नहीं। 1899 में 10 हज़ार से ज़्यादा बाल विवाह हुए। 12 साल से कम उम्र की लड़कियों की शादी हुई। क्या इसे परंपरा मान कर जारी रहने दिया जा सकता है? हमें सिर्फ ये देखना है कि ये खेल कानून और संविधान की कसौटी पर खरा उतरता है या नहीं।

यह भी पढ़े : हिरण को शेर से लड़ते देख बनाया था ये किला, कभी थी यहां शेरों की गुफाएं... देखे : photos

यह भी पढ़े : मौसा से प्यार कर बैठी भांजी, फिर बनाएं फिजिकल रिलेशन और...

यह भी पढ़े : माँ के बाहर निकलते ही, पिता बंद कमरे में नाबालिग बेटी के साथ करता था यह...

यह भी पढ़े : भगाकर ले आया था जीजा अपने साले की पत्नी, रोड पर छिड़ा खूनी संघर्ष... देखे : photos



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.