गुलाबजल से निखारे अपना सौंदर्य सिर दर्द से छुटकारा दिलाएंगे ये घरेलू नुस्खे ममता बनर्जी ने बुद्धदेव भट्टाचार्य से मुलाकात की बेंगलूरू: दो मंजिली इमारत ध्वस्त होने से सात की मौत सम्पत्ति विवाद में पिता की गोली मारकर हत्या राजस्थान: विभिन्न अपराधों में लिप्त छह सौ चौदह लोग गिरफ्तार कश्मीर में पूर्व सरपंच की हत्या, मुठभेड़ में एक आतंकी ढेर Asia Cup: भारतीय महिला हॉकी टीम घोषित, रानी बनी कप्तान जीटीबी स्कूल में यौन शोषण के प्रति छात्राओं को किया जागरूक शिक्षा नहीं, भीख मांगने का दिया जाता है प्रशिक्षण दीवाली बोनस को लेकर चर्चा में रहने वाले ढोलकिया एक फिर चर्चा में, वजह जानकर रह जायेंगे हैरान- B' Day Special: हेमा मालिनी ने मनाया 68वां जन्मदिन, जानिए इनसे जुडी... वीडियो : आरुषि-हेमराज मर्डर केस में तलवार दंपति डासना जेल से बाहर आए केंद्रीय गृह मंत्री ने जोधपुर में आईबी के पश्‍चिमी जोन क्षेत्रीय प्रशिक्षण केंद्र का किया उद्घाटन अनुपम खेर ने संभाला FTII के चेयरमैन पद का कार्यभार जेल जाने से पहले हनीप्रीत मिली अपने परिवार से, माँ- बाप से लिपटकर जताया अपना दुःख ऑस्ट्रेलिया के इस खिलाड़ी ने 35 ओवर के घरेलू मैच में जड़ा तिहरा शतक, 40 छक्के ठोके 2 हजार 45 एएनएम पदों पर दीपावली से पूर्व जारी होंगे पदस्थापन आदेश रेप के आरोपी जैन मुनि को कोर्ट ने भेजा जेल, मुनि बोले- लड़की के साथ सब सहमति से हुआ अगर आपने धनतेरस पर ये चीज खरीद रहे है तो हो सकता है बड़ा नुकसान
पोंगल के मौके पर जलीकट्टू नहीं होगा, SC ने शनिवार से पहले आदेश देने से किया इंकार
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:50:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार से पहले जलीकट्टू पर फैसला देने वाली अर्जी को ठुकरा दिया है। कोर्ट ने कहा कि बेंच को आदेश पास करने के लिए कहना अनुचित है। जलीकट्टू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के नोटिफिकेशन पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई थी कि जलीकट्टू को लेकर अदालत ने जो आदेश सुरक्षित कर रखा है, उस पर शनिवार से पहले आदेश सुना दिया जाए। कोर्ट ने कहा फैसले का ड्रॉफ्ट तैयार हो गया है लेकिन शनिवार से पहले आदेश सुनाना संभव नहीं है। बता दें कि जल्लीकट्टू यानी सांड़ों की दौड़ पर रोक के खिलाफ तमिलनाडू सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था।


दरअसल 22 जनवरी 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर लगाई गई रोक पर पुनर्विचार करने से मना कर दिया था। तमिलनाडु के कुछ निवासियों की तरफ से दायर पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगाई थी। वहीं केंद्र सरकार ने 8 जनवरी को अधिसूचना जारी कर जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था। अधिसूचना में कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए थे। पशु कल्याण बोर्ड, पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स, बेंगलुरू के एक एनजीओ और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में अधिसूचना को चुनौती दी थी। याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अधिसूचना पर रोक लगा दी थी।

 
पिछले साल जुलाई में तमिलनाडू सरकार ने याचिका में परंपरा का हवाला दिया था। इस पर जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा था कि - इस दलील में दम नहीं। 1899 में 10 हज़ार से ज़्यादा बाल विवाह हुए। 12 साल से कम उम्र की लड़कियों की शादी हुई। क्या इसे परंपरा मान कर जारी रहने दिया जा सकता है? हमें सिर्फ ये देखना है कि ये खेल कानून और संविधान की कसौटी पर खरा उतरता है या नहीं।

यह भी पढ़े : हिरण को शेर से लड़ते देख बनाया था ये किला, कभी थी यहां शेरों की गुफाएं... देखे : photos

यह भी पढ़े : मौसा से प्यार कर बैठी भांजी, फिर बनाएं फिजिकल रिलेशन और...

यह भी पढ़े : माँ के बाहर निकलते ही, पिता बंद कमरे में नाबालिग बेटी के साथ करता था यह...

यह भी पढ़े : भगाकर ले आया था जीजा अपने साले की पत्नी, रोड पर छिड़ा खूनी संघर्ष... देखे : photos



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.