loading...
भारतीय जीवन बीमा निगम करेगा हर तिमाही नतीजों की घोषणा एवलिन शर्मा ने करवाया बोल्ड फोटोशूट, देखें तस्वीरें ट्रंप को लगा झटका, फिलिप बिदेन का नौसेना सचिव पद की दावेदारी से लिया अपना नाम वापस पीएम मोदी ने ट्वीट के जवाब में 21 घंटे के अंदर महिला के घर भेजा ये तोहफा इस महिला क्रिकेटर ने रचा इतिहास, लगातार 4 शतक जड़े अमीर बनने के ख्वाब ने पंहुचा दिया सलाखों के पीछे! 1 मार्च से बैंकों के नियमों में होंगे बदलाव, HDFC बैंक से पांचवी बार कैश निकालने पर लगेगी 150 रुपए फीस Bigg Boss 10 की इस कंटेस्टेंट ने किया ऐसा खुलासा जिसे सुनकर आप रह जाएंगे हैरान रोमांचक फाइनल मुकाबले में लांसर्स बना हॉकी इंडिया लीग का नया चैंपियन जहर ने किम जोंग उन के सौतेले भाई 'नाम' को कर दिया था बुरी तरह लकवाग्रस्त! #StudentsAgainstABVP कैंपेन चलाने वाली करगिल शहीद की बेटी गुरमेहर को मिली रेप की धमकी जेनिफर लोपेज ने ऑस्कर अवॉर्ड में पहनी ये गोल्डन ड्रेस, देखें तस्वीरें आखिर सहवाग ने ऐसा क्यों कहा- मेरे बल्ले ने बनाए दो तिहरे शतक मैंने नहीं इसरो के वैज्ञानिक 2018 में रचने जा रहे हैं एक और इतिहास! जानिए, क्या कहता है 27 फ़रवरी का इतिहास डॉलर के मुकाबले रुपए में हुई 8 पैसे की बढ़ोतरी बिहार: सुधीर की गिरफ्तारी के विरोध में IAS, आज से नहीं मानेंगे CM का मौखिक आदेश भ्रष्टाचार और काले धन पर रोक लगाएगा डिजिटल पेमेंट, 125 और लोगों को सिखाए इसका इस्तेमाल : PM मोदी मुसोलिनी थे जबरदस्त आशिक, चाहते थे लगातार सैक्स ऑस्कर में प्रियंका चोपड़ा के साथ शामिल होंगी एक और प्रियंका
पोंगल के मौके पर जलीकट्टू नहीं होगा, SC ने शनिवार से पहले आदेश देने से किया इंकार
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:50:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार से पहले जलीकट्टू पर फैसला देने वाली अर्जी को ठुकरा दिया है। कोर्ट ने कहा कि बेंच को आदेश पास करने के लिए कहना अनुचित है। जलीकट्टू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के नोटिफिकेशन पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई थी कि जलीकट्टू को लेकर अदालत ने जो आदेश सुरक्षित कर रखा है, उस पर शनिवार से पहले आदेश सुना दिया जाए। कोर्ट ने कहा फैसले का ड्रॉफ्ट तैयार हो गया है लेकिन शनिवार से पहले आदेश सुनाना संभव नहीं है। बता दें कि जल्लीकट्टू यानी सांड़ों की दौड़ पर रोक के खिलाफ तमिलनाडू सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था।


दरअसल 22 जनवरी 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर लगाई गई रोक पर पुनर्विचार करने से मना कर दिया था। तमिलनाडु के कुछ निवासियों की तरफ से दायर पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगाई थी। वहीं केंद्र सरकार ने 8 जनवरी को अधिसूचना जारी कर जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था। अधिसूचना में कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए थे। पशु कल्याण बोर्ड, पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स, बेंगलुरू के एक एनजीओ और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में अधिसूचना को चुनौती दी थी। याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अधिसूचना पर रोक लगा दी थी।

 
पिछले साल जुलाई में तमिलनाडू सरकार ने याचिका में परंपरा का हवाला दिया था। इस पर जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा था कि - इस दलील में दम नहीं। 1899 में 10 हज़ार से ज़्यादा बाल विवाह हुए। 12 साल से कम उम्र की लड़कियों की शादी हुई। क्या इसे परंपरा मान कर जारी रहने दिया जा सकता है? हमें सिर्फ ये देखना है कि ये खेल कानून और संविधान की कसौटी पर खरा उतरता है या नहीं।

यह भी पढ़े : हिरण को शेर से लड़ते देख बनाया था ये किला, कभी थी यहां शेरों की गुफाएं... देखे : photos

यह भी पढ़े : मौसा से प्यार कर बैठी भांजी, फिर बनाएं फिजिकल रिलेशन और...

यह भी पढ़े : माँ के बाहर निकलते ही, पिता बंद कमरे में नाबालिग बेटी के साथ करता था यह...

यह भी पढ़े : भगाकर ले आया था जीजा अपने साले की पत्नी, रोड पर छिड़ा खूनी संघर्ष... देखे : photos



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.