loading...
योगी आदित्यनाथ ने कहा- सूर्य नमस्कार- नमाज दोनों एक जैसे है, लेकिन... दक्षिणी बगदाद में आत्मघाती ट्रक हमले में 15 लोगों की मौत, 45 लोग घायल : इराकी अधिकारी जानिए, कुछ इस तरह हुई थी रंगीले राजस्थान की स्थापना... भारत-पाक सीरीज को लेकर गृह मंत्रालय ने किया इंकार चैत्र नवरात्र: तीसरे दिन देवी चंद्रघंटा की ऐसे करें पूजा, आराधना से बढ़ेगा पराक्रम ये रियाल लाइफ भाई-बहन पर्दे पर भी नजर आंएगे बहन भाई के रोल में लीबिया के टोब्रूक शहर में लड़ाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त, चार की मौत BJP को टक्कर देने के लिए राष्ट्रीय कांग्रेस स्वयंसेवक संघ बनाएंगे: असलम शेर खान गणगौर उत्सव: गणगौर माता खोल किवाड़ी बहार खड़ी तेरी पूजन हाली.. ब्राजील के राष्ट्रपति टेमर करेंगे अमेरिका का दौरा, द्विपक्षीय व्यापार और निवेश पर करेंगे चर्चा Video: अब इस फिल्म को पाकिस्तान ने रिलीज़ करने से किया इनकार! Sanjeevni Today: Top Stories of 9am GST को लोकसभा की मंजूरी, देश के टैक्स सिस्टम में आएंगे ये 10 बड़े बदलाव Video: देखें साउथ की फिल्म एक्ट्रेस, सीरत कपूर का TOPLESS फोटोशूट! गणगौर माता की सवारी के दौरान इस प्रकार से रहेगी यातायात की व्यवस्था जानिए, इतिहास के पन्नों में 30 मार्च का दिन क्यों है खास PAK क्रिकेटरों ने PCB से कहा- भारत से न करें द्विपक्षीय श्रृंखला की उम्मीद सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत ने नेपाली समकक्ष राजेंद्र छेत्री को सात घोड़े किए भेंट महोबा रेल हादसा: महाकौशल एक्सप्रेस के 8 डिब्बे पटरी से उतरे,10 यात्री हुए घायल साइना नेहवाल ने कहा- नंबर एक बनने से नहीं टूर्नामेंट जीतने से मिलता है संतोष
पोंगल के मौके पर जलीकट्टू नहीं होगा, SC ने शनिवार से पहले आदेश देने से किया इंकार
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:50:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार से पहले जलीकट्टू पर फैसला देने वाली अर्जी को ठुकरा दिया है। कोर्ट ने कहा कि बेंच को आदेश पास करने के लिए कहना अनुचित है। जलीकट्टू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के नोटिफिकेशन पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई थी कि जलीकट्टू को लेकर अदालत ने जो आदेश सुरक्षित कर रखा है, उस पर शनिवार से पहले आदेश सुना दिया जाए। कोर्ट ने कहा फैसले का ड्रॉफ्ट तैयार हो गया है लेकिन शनिवार से पहले आदेश सुनाना संभव नहीं है। बता दें कि जल्लीकट्टू यानी सांड़ों की दौड़ पर रोक के खिलाफ तमिलनाडू सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था।


दरअसल 22 जनवरी 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर लगाई गई रोक पर पुनर्विचार करने से मना कर दिया था। तमिलनाडु के कुछ निवासियों की तरफ से दायर पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगाई थी। वहीं केंद्र सरकार ने 8 जनवरी को अधिसूचना जारी कर जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था। अधिसूचना में कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए थे। पशु कल्याण बोर्ड, पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स, बेंगलुरू के एक एनजीओ और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में अधिसूचना को चुनौती दी थी। याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अधिसूचना पर रोक लगा दी थी।

 
पिछले साल जुलाई में तमिलनाडू सरकार ने याचिका में परंपरा का हवाला दिया था। इस पर जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा था कि - इस दलील में दम नहीं। 1899 में 10 हज़ार से ज़्यादा बाल विवाह हुए। 12 साल से कम उम्र की लड़कियों की शादी हुई। क्या इसे परंपरा मान कर जारी रहने दिया जा सकता है? हमें सिर्फ ये देखना है कि ये खेल कानून और संविधान की कसौटी पर खरा उतरता है या नहीं।

यह भी पढ़े : हिरण को शेर से लड़ते देख बनाया था ये किला, कभी थी यहां शेरों की गुफाएं... देखे : photos

यह भी पढ़े : मौसा से प्यार कर बैठी भांजी, फिर बनाएं फिजिकल रिलेशन और...

यह भी पढ़े : माँ के बाहर निकलते ही, पिता बंद कमरे में नाबालिग बेटी के साथ करता था यह...

यह भी पढ़े : भगाकर ले आया था जीजा अपने साले की पत्नी, रोड पर छिड़ा खूनी संघर्ष... देखे : photos



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.