loading...
loading...
loading...
सरकारों ने आज तक के इतिहास को तोड़-मरोड़ कर पेश किया: डॉ. सतीष चंद्र जुलाई माह तक ही वैध होंगे मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के स्वास्थ्य कार्ड रोज नाश्ते में शामिल करे स्वीट कॉर्न पनीर बॉल फर्जी चिकित्सकों के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग सतर्क स्वास्थ्य और पर्यावरण की सुरक्षा के लिए मिनी दौड़ का आयोजन अफगानिस्तान में डैम के पास हुआ आतंकी हमला, 10 पुलिसकर्मी शहीद IND vs WI: अजिंक्य रहाणे सेंचुरी जमाकर आउट, कोहली-पंड्या क्रीज पर FB से हुए नाराज बिग बी, ट्विटर पर की शिकायत श्रीनगर में स्कूल के भीतर छुपे दो आतंकवादियों की मुठभेड़ में मौत, दो जवान जख्मी IND vs WI: रहाणे शतक के करीब, कोहली क्रीज पर, score 192/1 मीरा कुमार ने निर्वाचक मंडल की लिखी चिट्ठी, कहा - इतिहास रचने का है मौका लग्जरी गाड़ी से हो रही थी शराब की तस्करी, पुलिस ने की पकड़ने में सफलता हासिल मध्य प्रदेश पुलिस ने किया इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला ऐसा काम 'ये हैं मोहब्बतें...' के ऐक्टर्स दिव्यांका त्रिपाठी और विवेक दहिया बने नच बलिए सीजन 8 के विनर भोपाल दुनिया के लिए स्मार्ट सिटी का होगा मापदंड: शिवराज सिंह IND vs WI: धवन-रहाणे ने जड़े अर्धशतक, धवन हुए आउट इंतजार खत्म हुआ, चांद का हुआ दीदार, कल मनाई जाएगी ईद आनंदपाल के आम इंसान से एक गैंगस्टर बनने की ये है पूरी कहानी...... IND vs WI: धवन-रहाणे ने दी भारत को मजबूत शुरुआत, बारिश के कारण मैच 43 ओवर का पुलिस की प्रेस कांफ्रेंस में बदमाश ने दी ऐसी धमकी, सुनकर पुलिस हुई हैरान
पोंगल के मौके पर जलीकट्टू नहीं होगा, SC ने शनिवार से पहले आदेश देने से किया इंकार
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:50:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार से पहले जलीकट्टू पर फैसला देने वाली अर्जी को ठुकरा दिया है। कोर्ट ने कहा कि बेंच को आदेश पास करने के लिए कहना अनुचित है। जलीकट्टू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के नोटिफिकेशन पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई थी कि जलीकट्टू को लेकर अदालत ने जो आदेश सुरक्षित कर रखा है, उस पर शनिवार से पहले आदेश सुना दिया जाए। कोर्ट ने कहा फैसले का ड्रॉफ्ट तैयार हो गया है लेकिन शनिवार से पहले आदेश सुनाना संभव नहीं है। बता दें कि जल्लीकट्टू यानी सांड़ों की दौड़ पर रोक के खिलाफ तमिलनाडू सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था।


दरअसल 22 जनवरी 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर लगाई गई रोक पर पुनर्विचार करने से मना कर दिया था। तमिलनाडु के कुछ निवासियों की तरफ से दायर पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगाई थी। वहीं केंद्र सरकार ने 8 जनवरी को अधिसूचना जारी कर जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था। अधिसूचना में कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए थे। पशु कल्याण बोर्ड, पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स, बेंगलुरू के एक एनजीओ और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में अधिसूचना को चुनौती दी थी। याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अधिसूचना पर रोक लगा दी थी।

 
पिछले साल जुलाई में तमिलनाडू सरकार ने याचिका में परंपरा का हवाला दिया था। इस पर जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा था कि - इस दलील में दम नहीं। 1899 में 10 हज़ार से ज़्यादा बाल विवाह हुए। 12 साल से कम उम्र की लड़कियों की शादी हुई। क्या इसे परंपरा मान कर जारी रहने दिया जा सकता है? हमें सिर्फ ये देखना है कि ये खेल कानून और संविधान की कसौटी पर खरा उतरता है या नहीं।

यह भी पढ़े : हिरण को शेर से लड़ते देख बनाया था ये किला, कभी थी यहां शेरों की गुफाएं... देखे : photos

यह भी पढ़े : मौसा से प्यार कर बैठी भांजी, फिर बनाएं फिजिकल रिलेशन और...

यह भी पढ़े : माँ के बाहर निकलते ही, पिता बंद कमरे में नाबालिग बेटी के साथ करता था यह...

यह भी पढ़े : भगाकर ले आया था जीजा अपने साले की पत्नी, रोड पर छिड़ा खूनी संघर्ष... देखे : photos



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.